Sunday, March 21, 2021

85. 'प्रवासी मन' विषय-वैविध्य की कृति

 
मेरी दूसरी पुस्तक 'प्रवासी मन' (हाइकु-संग्रह) का प्रकाशन 7 जनवरी 2021
को अयन प्रकाशन से हुआ। 10 जनवरी 2021 को विश्व हिन्दी दिवस के अवसर पर 'हिन्दी हाइकु' एवं 'शब्द सृष्टि' के संयुक्त तत्वाधान में गूगल मीट और फेसबुक पर आयोजित पहला ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मलेन हुआ, जिसमें मेरी पुस्तक 'प्रवासी मन' का लोकार्पण हुआ। 'प्रवासी मन' के लिए आदरणीय रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' जी ने भूमिका लिखी है, जिसे यहाँ प्रेषित कर रही हूँ।   
 
'प्रवासी मनविषय-वैविध्य की कृति


प्रकृति और जीव-जगत् एक दूसरे के पूरक हैंएक दूसरे के बिना अधूरे हैं। बाह्य प्रकृति जीव-जगत् को प्रभावित करती हैतो जीव जगत् भी प्रकृति को प्रभावित करता है। तापबरसातकुहासावसन्तपतझरभूकम्पसुनामी प्रकृति के साथ-साथ मानव जीवन में भी किसी न किसी रूप में घटित होते ही हैं। इन सबके बीच रहकर मानव इन सबसे अछूता भी कैसे रह सकता हैअगर कोई यह कहता है कि वह किसी से राग-द्वेष (प्यार और नफ़रत) नहीं रखतावह कभी रोता नहींवह कभी हँसता नहींवह कभी नाराज़ नहीं होतातो समझिए कि या तो वह झूठ बोल रहा है या वह देवता है या संवेदना- शून्य है। हाइकु कविता के लिए भी कोई विषय त्याज्य नहीं माना जा सकताक्योंकि कवि का अपना व्यक्तित्व हैउसके संस्कार हैंउसका मन हैउसके अपने सामाजिक सरोकार हैं। वह इन सबकी उपेक्षा कैसे कर सकता हैड़ॉ. जेन्नी शबनम जहाँ एक रचनाकार हैंदूसरी ओर वह सामाजिक कार्यों से भी जुड़ी हैं एवं जन समस्याओं से रूबरू भी होती रहती हैंइसीलिए इनका गद्य जितना अच्छा हैउतनी ही गहरी एवं संवेदना-सिंचित इनकी कविताएँ हैं। हाइकु-सर्जन में भी उनकी वही गहराई और मज़बूत पकड़ नज़र आती है। इसका एक कारण दृष्टिगत होता हैइनका जीवन-अनुभव और साहित्य का गहन अध्ययन। अमृता प्रीतम से इनका प्रगाढ़ सामीप्य रहा है। इनके काव्य में कहीं-कहीं उसकी झलक मिल जाती हैफिर भी इनका अपना चिन्तन हैअपनी शैली है।

जीवन में शाश्वत सुख जैसा कुछ नहीं होता। मन को जो थोड़ी देर के लिए सुख मिलता हैउसमें भी कहीं न कहीं दुःख की छाया रहती है। जहाँ मिलन या संयोग का आनन्द होता हैउसी में उस सुख के छिन जाने का भय बना रहता है। घनानंद ने कहा भी है-अनोखी हिलग दैयाबिछुरे तै मिल्यौ चाहै / मिलेहू पै मारै जारै खरक बिछोह की। यानी प्रेम भी अनोखा है कि बिछुड़ जाने पर मिलने के लिए व्याकुल होता है और मिलन होने पर बिछोह का खटका लगा रहता है। इनके हाइकु में एक ओर प्रेम हैछले जाने की पीर हैदु:ख की नियति हैतो जीवन का उल्लास भी हैप्रकृति का अनुपम सौन्दर्य भीखेत में अन्न से जाग्रत किसान है ,तो दो वक़्त की रोटी के लिए जूझता मज़दूर भी है। हर मौसम का सौन्दर्य हैतो उनका निर्दय रूप भी है।

मन को प्रवासी कहा है। वह भी ऐसा प्रवासी जिसका कोई घर ही नहीं। वह लौटे भी तो कहाँ जाए। जाए भी कैसेरास्ता काँटों-भरापाँव जख्मी हो गाएअब कहाँ जाया जाए। एकान्त को तोड़ने के लिए गौरैया से भी मनुहार की है कि वह चीं-चीं बोले तो चुप्पी टूटे। ज़िन्दगी का आनन्द तो दूर रहा उल्टे वह हवन हो गईजिसका धुआँ बादलों तक जा पहुँचा-

पाँव है ज़ख़्मी / राह में फैले काँटे / मैं जाऊँ कहाँ!-4.

लौटता कहाँ / मेरा प्रवासी मन / न कोई घर!-10

मेरी गौरैया / चीं चीं-चीं चीं बोल री, / मन है सूना!-1000.

हवन हुई / बादलों तक गई / ज़िन्दगी धुँआ!-316.

प्रकृति का आलम्बन रूप में यदि उसके स्वरूप का चित्रांकन किया गया है, तो उसका लाक्षणिक और प्रतीक रूप भी मौजूद है। 'बगियाके अभिधेय और लाक्षणिक दोनों रूप मौजूद हैं-

गगरी खाली / सूख गई धरती / प्यासी तड़पूँ!-26.

झुलस गई / धधकती धूप में / मेरी बगिया! 28

प्रकृति का मोहक सौन्दर्य भी हैजिसमें फसलों के हँसने काफूलों का बच्चों की तरह गलबहियाँ डालकर बैठने का मोहक मानवीकरण भी है। हँसता हुआ गगन है, तो बेपरवाह धूप भी है। अम्बर से बादल नहीं बरसा; बल्कि अम्बर उस बच्चे की तरह रोया हैजिसका किसी ने खिलौना छीन लिया गया हो। जेन्नी शबनम की यह नूतन कल्पना नन्हे से हाइकु को चार चाँद लागा देती है। कम से कम शब्दों में उकेरे गए ये चित्र मनमोहक हैं-

फूल यूँ खिले, / गलबहियाँ डाले / बैठे हों बच्चे!-1019

फसलें हँसी, / ज्यों धरा ने पहने / ढेरों गहने!-1022

गगन हँसा / बेपरवाह धूप / साँझ से हारी! 951

अम्बर रोया, / ज्यों बच्चे से छिना / प्यारा खिलौना1020

प्रकृति का चेतावनी देना वाला वह रूप भी हैजिसे मानव ने अपने स्वार्थ से नष्ट कर दिया है। कैकेयी की तरह रूठना जैसे पौराणिक उपमानों का सार्थक प्रयोग विषय को और भी प्रभावी बना देता है। धूल और धुएँ से धरती की बेदम साँसें पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी चेतावनी हैं। हरियाली के लिए पर्यावरण की हरी ओढ़नी का सार्थक प्रयोग किया गया है। उस ओढ़नी को छीनने पर प्रकृति की नग्नता प्रकारान्तर से जीवन के लिए खतरे का संकेत हैतो अनावृष्टि का चित्र देखिए-खेतों का ठिठकना, 'बरसो मेघहाथ जोड़कर पुकारना, कितनी व्याकुलता से भरा हुआ है!

ठिठके खेत / कर जोड़ पुकारें / बरसो मेघ! 53

रूठा है सूर्य / कैकेयी-साजा बैठा / कोप-भवन! 1025.

धूल व धुआँ / थकी हारी प्रकृति / बेदम साँसें! 928.

हरी ओढ़नी / भौतिकता ने छीनी / प्रकृति नग्न! 935.

प्रकृति की भयावह स्थिति का चित्रण करते हुए जीव-जगत् की विवशताजलाभाव में कण्ठ सूखनापेड़ और पक्षियों का लिपटकर रोना बहुत कारुणिक है। प्रकृति के ऐसे भावचित्र साहित्य में दुर्लभ ही हैं। ऐसे दृश्य को आठ शब्दों के 17 वर्ण में समेटना बड़ी शब्द-साधना है।

कंठ सूखता / नदी-पोखर सूखे / क्या करे जीव? 757

पेड़ व पक्षी / प्यास से तड़पते / लिपट रोते! 758.

प्रेम प्राणिमात्र की अबुझ प्यास है। गोपालदास नीरज ने एक गीत में कहा है-'प्यार अगर न थामता पथ में / उँगली इस बीमार उम्र की / हर पीड़ा वेश्या बन जाती / हर आँसू आवारा होता।' उसी प्रेम को कवयित्री ने विभिन्न भाव-संवेदनाओं के साथ प्रस्तुत किया है। कहीं वह प्रेम अग्नि है जो ऊँच-नीच का भेद नहीं करता। कहीं वह ऐसा बन्धन जो बिना किसी रज्जु या शृंखला के अटूट हैकहीं वह चिड़िया की तरह बावरा है जो गैरों में भी अपनापन तलाशता है-

प्रेम की अग्नि / ऊँच-नीच न देखे / मन में जले! 143

प्रेम बंधन / न रस्सी न साँकल / पर अटूट! 14

बावरी चिड़ी / गैरों में वह ढूँढती / अपनापन! 163

प्रेम की एक निष्ठता में सूर्य और सूर्यमुखी का सम्बन्ध हैतो कभी नैनों की झील में उतरने का अमन्त्रण हैकहीं उन स्वप्न को छुपाने वाले नैनों का सौन्दर्य हैजो झील की तरह गहरे हैं। जिनमें उतरकर ही प्रेम की थाह पाई जा सकती है।

मैं सूर्यमुखी / तुम्हें ही निहारती / तुम सूरज! 851

गहरी झील / आँखों में है बसती / उतरो जरा! 890

स्वप्न छिपाती / कितनी है गहरी / नैनों की झील! 899

उसे जब उसका प्रेमास्पद मिल जाता हैतो उसका अनुरागउसका आगमन गुलमोगर बनकर खिल जाता है

तुम्हारी छवि / जैसे दोपहरी में / गुलमोहर।219

उनका आना / जैसे मन में खिला / गुलमोहर! 217.

वियोग की स्थिति होने पर उस मन में सन्नाटा पसर जाता हैचुप्पी भी सन्नाटे नाम ख़त भेजने लगती है। मन में जो प्राणप्रिय बसा था, वह था तो आकाश की तरह व्यापक तोलेकिन उसकी पहुँच से दूर है-

कोई न आया / पसरा है सन्नाटा / मन अकेला! 234.

ख़त है आया / सन्नाटे के नाम से, / चुप्पी ने भेजा! 238.

मेरा आकाश / मुझसे बड़ी दूर / है मगरूर! 619.

जब व्यक्ति की वेदना सीमाएँ लाँघ जाती हैतो मौन ही फिर एकमात्र उपाय रह जाता है। भरपूर दु:ख सहने पर भी कभी उसका अन्त नहीं होता। वह बेहया अतिथि की तरह आता तो अचानक हैलेकिन फिर जाने का नाम नहीं लेता-

मेरी वेदना / सर टिकाए पड़ी / मौन की छाती! 852.

दुःख की रोटी / भरपेट है खाई / फिर भी बची! 859.

दुःख अतिथि / जाने की नहीं तिथि / बड़ा बेहया! 860.

जीवन बड़ा विकट है। ज़माने की बुरी नज़रें अस्तित्व को न जाने कब ध्वस्त कर दें। ख़ुद को गँवाने पर भी कुछ मिल जाएसम्भव नहीं। जीवन बीत जाता है। हमारे सामने ही हमारे सुखों कोसुख-साधनों को कोई और हड़प लेता है-

घूरती रही / ललचाई नज़रें, / शर्म से गड़ी! 177.

कुछ न पाया / ख़ुद को भी गँवाया / लाँछन पाया! 178

ताकती रही / जी गया कोई और / ज़िन्दगी मेरी! 298.

बुढ़ापा सारे अभाव का नम है। कोई उसकी व्यथा सुनने वाला नहींअपने सगे भी साथ छोड़ जाते हैं। जो परदेस चले जाते हैंवे भी धीरे-धीरे सारे सम्बन्ध समेट लेते हैं। इसी तरह बेसहारा जीवन अवसान की ओर बढ़ता रहता है। -जेन्नी जी ने बुढ़ापे का बहुत मार्मिक चित्रण किया है

वृद्ध की कथा / कोई न सुने व्यथा / घर है भरा! 865.

बुढ़ापा खोट / अपने भी भागते / कोई न ओट! 875.

वृद्ध की आस / शायद कोई आए / टूटती साँस! 876.

वृद्ध की लाठी / बस गया विदेश / भूला वह माटी! 882.

बहन और बेटी के सम्बन्धों की प्रगाढ़ता को अपने हाइकु में मधुर स्वर दिया है-

छूटा है देस / चली है परदेस / गौरैया बेटी! 1012.

ये धागे कच्चे / जोड़ते रिश्ते पक्के / होते ये सच्चे! 290.

यादों को लेकर जो कसक हैउसे न लौटने की हिदायत ही दे डाली-

तुम भी भूलो, / मत लौटना यादें, / हमें जो भूले! 1032.

वैचारिक पक्ष को देखें तो एक महत्त्वपूर्ण बात कवयित्री ने कही हैजिसको व्यापक अर्थ और परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए। मानव ही मन्दिर की मूर्त्ति को बनाता-तराशता हैलेकिन वही मनुष्यउस मन्दिर की व्यवस्था द्वारा बुरा क़रार दे दिया जाता है-

हमसे जन्मी / मंदिर की प्रतिमा, / हम ही बुरे! 1052

अगर भाषा की बात करें तो कवयित्री भाषा–प्रयोग में बहुत सजग हैं। हाइकु को हाइकु में परिभाषित करते हुए उसका जीवन से साम्य प्रस्तुत किया है-

हाइकु ऐसे / चंद लफ़्ज़ों में पूर्ण / ज़िन्दगी जैसे! 172.

भाषा में क्षेत्रीय शब्दों का प्रयोग हाइकु को और अधिक सशक्त बना देता है। राह अगोरे  (बाट देखनाप्रतीक्षा करना) सरेह (खेत) बनिहारी (खेतों में काम करना) असोरा (ओसारादालान) पथार (सुखाने के लिए फैलाया गया अनाज) जैसे सार्थक और उपयुक्त शब्दों के प्रयोग हाइकु को और अधिक सशक्त बना देते हैं-

राह अगोरे / भइया नहीं आए / राखी का दिन! 39

हुआ विहान, / बैल का जोड़ा बोला- / सरेह चलो! 457.

भोर की वेला / बनिहारी को चला / खेत का साथी! 562.

असोरा ताके / कब लौटे गृहस्थ / थक हार के! 566.

भोज है सजा / पथार है पसरा / गौरैया खुश! 1008.

डॉ जेन्नी शबनम के हाइकु का फलक बहुत विस्तृत है। यहाँ संक्षेप में कुछ विशेषताएँ बताने का प्रयास किया है। विषय-वैविध्य इनके हाइकु की शक्ति भी हैविशेषता भी। इस शताब्दी के लगभग पूरे दशक में आपकी लेखनी चलती रही है। मुझे विश्वास है कि 'प्रवासी मनसंग्रह इस दशक के महत्त्वपूर्ण संग्रहों में से एक सिद्ध होगा।

      
      -0-

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

23 नवम्बर 2020

______________________


- डॉ. जेन्नी शबनम (21. 3. 21)

***********************

10 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर समीक्षा।
बधाई हो।

मंजूषा मन said...

अति सुंदर समीक्षा

हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

Anita Manda said...

संग्रह पढा। बहुत सुंदर भूमिका। आपकी हाइकु यात्रा अनोखी है। बधाई।

Krishna said...

जेन्नी जी को उनके खूबसूरत हाइकु संग्रह और आ. भाई कम्बोज जी को संग्रह की अद्भुत समीक्षा के लिए हार्दिक बधाई।

शिवजी श्रीवास्तव said...

बहुत सुंदर समीक्षा

जितेन्द्र माथुर said...

पुस्तक की एक बहुत अच्छी झलक प्रदान कर दी है इस पोस्ट ने । निश्चय ही इसका प्रकाशन हर्ष का विषय है । हार्दिक बधाई आपको ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत बधाई

Sudershan Ratnakar said...

बेहतरीन समीक्षा। बहुत सुंदर विश्लेषण से पता चलता है कि संग्रह वास्तव में बेहतरीन होगा। आप दोनों को हार्दिक बधाई।

Sudershan Ratnakar said...

बेहतरीन समीक्षा। सुंदर विश्लेषण से पता चलता है कि संग्रह कितना बेहतरीन है। हार्दिक बधाई

प्रियंका गुप्ता said...

आदरणीय काम्बोज जी ने बहुत सार्थक विवेचना की है, इस आलेख के लिए उनको बधाई और संग्रह के लिए आपको बधाई और शुभकामनाएँ