Monday, December 1, 2014

50. यह ह्त्या नहीं स्त्रियों का सामूहिक नरसंहार है

*******

छत्तीसगढ़ में नसबंदी के दौरान 14 स्त्रियों की मौत ने एक बार फिर सोचने को मजबूर किया कि हमारे देश में आम स्त्रियों की कीमत क्या है। न उनकी ज़िन्दगी का कोई मोल है न उनकी मृत्यु का कोई अर्थ ! हम ज़बरदस्त गैरबराबरी से जूझ रहे ऐसे संवेदनहीन और असभ्य समाज का हिस्सा जा रहे हैं जो वर्चस्व, सत्ता और प्रतिस्पर्धा को ही एक मात्र जीने का मूल मंत्र बना चुका है। अजीब ये है कि इन सबमें उसके सामने केवल स्त्री खड़ी है। 

छत्तीसगढ़ के इस हादसे के परिपेक्ष में विषयों पर विशेष रूप से सोचना होगा। पहला यह कि स्वास्थ्य शिविर में जाकर इलाज कराने वाला तबका कौन है। यह समाज का वो वर्ग है जिसे सरकारी खानापूर्ति की भरपाई के लिए लक्ष्य-पूर्ति का साधन बना दिया जाता है। असुरक्षित और अस्वस्थ माहौल में सीमित संसाधनों के द्वारा चिकित्सा करना या शल्य क्रिया को अंजाम देना निश्चय ही अमानवीय अपराध है। अजीब है कि यह अपराध वैधानिक तरीके से हो रहा है क्योंकि शिविरों के हालात का अंदाजा जनसाधारण को है। निर्धन जनता या ऐसे क्षेत्र के निवासी जहाँ स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव है, इन स्वास्थ्य केन्द्रों और शिविरों पर निर्भर होते हैं और अपनी जान जोख़िम में डालने को मजबूर होते हैं। 
  
समाज कल्याण से जुड़ी सरकारी योजनाओं के तहत लगने वाले नसबंदी शिविरों का सच किसी से छिपा नहीं है। इन शिविरों में एक-एक दिन में सौ-सौ ऑपरेशन किए जाते हैं । एक वरिष्ठ चिकित्सक होता है जिसके अंतर्गत कई प्रशिक्षु होते हैं जो यह काम निबटाते हैं। यह शिविर जहाँ भी लगता है वहाँ न तो आधुनिक ऑपरेशन थियेटर होता है न आपातकालीन चिकित्सा के लिए कोई यन्त्र न ही स्वच्छ वातावरण। यह हमारे भारत का सच है कि इन शिविरों में सिर्फ वही स्त्रियाँ या पुरुष जाते हैं जो आर्थिक रूप से अत्यंत कमजोर होते हैं। जिनकी आर्थिक स्थिति ज़रा भी ठीक हो, भले ही वह दिहाड़ी मजदूर ही क्यों न हो, वह भी निजी अस्पताल में ही जाकर इलाज कराता है। इस सच से न तो हमारे देश की जनता इंकार कर सकती है न ही सरकार।

दूसरा विषय यह है जिस पर न सिर्फ स्त्रियों को सोचना होगा बल्कि हमारे समाज और हमारे पुरुष वर्ग को भी सोचना होगा। आख़िर स्त्रियाँ ही आबादी बढ़ाने और रोकने का दंड क्यों पाती है? औरतों की ही नसबंदी क्यों, पुरुष की क्यों नहीं? क्या यह नसबंदी पुरुषों के लिए ज्यादा सुरक्षित और कारगार नहीं है? क्यों आज भी भारत की तमाम वर्ग की महिलाएँ ही नसबंदी कराती हैं पुरुष नहीं? स्त्रियों की नसबंदी का ऑपरेशन पुरुषों की तुलना में जटिल और मुश्किल होता है। जबकि पुरुष की नसबंदी स्त्रियों की तुलना में बहुत सरल है जिसमें न तो कोई जटिल प्रक्रिया है न किसी तरह का कोई ख़तरा न ही ऑपरेशन के बाद लम्बे अवधि तक विश्राम की आवश्यकता।      

आख़िर औरतों पर ही संतानोत्पत्ति और नसबंदी का सारा कारोबार आधारित क्यों है? क्या बिना पुरुष के स्त्रियाँ बच्चा पैदा करती हैं? जब पुरुष के बिना संतानोत्पत्ति संभव नहीं है फिर नसबंदी पुरुष क्यों नहीं कराते? न सिर्फ अशिक्षित बल्कि शिक्षित पुरुषों का भी मानना है कि नसबंदी कराने से पौरुष ताकत में कमी आ जाती है। जबकि वैज्ञानिक रूप से साबित हो चुका है कि यह सच नहीं सिर्फ अज्ञानता है। पुरुष नसबंदी के कई फायदों में एक अहम् फायदा यह भी है कि किसी कारण से यदि फिर से संतान चाहे तो संतान संभव है। लेकिन स्त्री के मामले में ऐसा संभव नहीं होता है।

हमारी परम्पराओं का हमारे जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है । अपनी पढ़ाई के दौरान मुझे परिवार नियोजन विषय पर कुछ महिलाओं से बात चीत करने का मौक़ा मिला था जिसमें एक स्तब्ध करने वाला सच मेरे सामने आया। एक स्त्री ने बताया कि उसके पति के नसबंदी कराने के बाद भी उसे बच्चा हुआ। डॉक्टर ने कहा कि सामान्यतः ऐसा नहीं होता है लेकिन कभी-कभी कुछ अपवाद हो जाते हैं, जिसमें वे भी हैं। डॉक्टर के कहने के बाद भी उसका पति उसके चरित्र पर शक करता रहता है। एक दूसरी स्त्री जो काफी पढ़ी लिखी थी उसका कहना था कि अगर किसी कारण उसके पति का नसबंदी ऑपरेशन असफल हुआ और वह गर्भवती हो गई तो आजीवन उसे शक से देखा जाएगा। इससे बेहतर है कि स्त्री स्वयं ही ऑपरेशन करा ले। एक छोटा सा तो ऑपरेशन है आजीवन एक डर और इल्जाम से तो बचा जा सकता है। एक अविवाहित स्त्री जो बहुत आधुनिक थी, का कहना था दो बच्चे के बाद ऑपरेशन करा लो, क्या पता पति का ऑपरेशन सफल न हुआ तो एक और बच्चे का बोझ सहो, या फिर गर्भपात काराओ, इतने झमेले से तो अच्छा है कि स्त्री ही ऑपरेशन करा कर हमेशा के लिए एक झंझट से मुक्त हो जाए और पति के शक से भी छुटकारा रहेगा। यूँ तो सभी स्त्रियों की राय यही थी कि स्त्री को ही ऑपरेशन करा लेना चाहिए अन्यथा फिर से गर्भवती होना या गर्भपात कराना पड़ सकता है।  

इन सभी पहलुओं पर विचार करें तो कहीं न कहीं हमारा समाज, हमारी सोच, हमारी मान्यताएँ और परम्पराएँ इन सबके लिए दोषी है। हमारा पुरुष समाज जो स्त्री का चरित्र उसके बदन में खोजता है और उसके बदन पर ही अपना चरित्र गँवाता है फिर भी उस स्त्री के लिए एक ज़रा सा जहमत उठाना नहीं चाहता; जबकि पुरुष नसबंदी में न पीड़ा होती है न वक़्त लगता है, ऑपरेशन के एक घंटे के बाद ही पुरुष काम पर वापस जा सकता है। सरकारी प्रचार प्रसार के बाद भी पुरुष इस बात को समझ नहीं पाता कि नसबंदी के बाद भी उसकी यौन-शक्ति वैसी ही रहेगी। कोई भी पुरुष सहजता से ऑपरेशन नहीं कराता। यह सिर्फ अशिक्षित समाज का चेहरा नहीं बल्कि शिक्षित और प्रगतिशील बिरादरी का भी चेहरा है।

हमारे समाज की संकीर्ण मानसिकता का परिणाम है कि न सिर्फ वे 14 स्त्री मारी गई बल्कि 14 परिवार बिखर गया और उनके बच्चे माताविहीन हो गए। इस घटना को दुर्घटना या लापरवाही कह कर आरोपी चिकित्सकों को कटघरे में खड़ा किया जाए या कानूनी सज़ा दी जाए या फिर मृत स्त्रियों के परिवार को मुआवजा दिया जाए; पर क्या इन सबसे उन मृत औरतों को वापस लाया जा सकता है ? क्या स्त्रियों के साथ हो रहे इन अपराधों और अमानवीय अत्याचारों का खात्मा कभी संभव है?  क्या यूँ ही शोषित वर्ग की शोषित स्त्रियों की बली चढ़ती रहेगी? 

- जेन्नी शबनम (1. 12. 2014)

****************************************************

45 comments:

SUMIT PRATAP SINGH said...

विचारणीय आलेख...

vibha rani Shrivastava said...

आपके आलेख में कई बात है जिनसे मैं सहमत हूँ

shikha varshney said...

सदियों की रूड़ीवादी मानसिकता है जेन्नी जी. बदलने में न जाने कितना वक्त लगेगा अभी. दुखद है पर दिल्ली अभी बहुत दूर है :(

विजय कुमार सिंघल said...

बहुत अच्छे विचार !

Mahesh Barmate said...

पुरुष प्रधान समाज की सच्चाई को प्रदर्शित करता सार्थक लेख..

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

यह स्त्रियों ही नहीं, समग्रता में मनुष्यता का संहार है. जनसंहार कहा जाना चाहिए इसे. वैश्वीकरण के नाम पर आए बेलगाम पूंजीवाद ने हमें चिकित्सा और शिक्षा व्यवस्था के नाम पर जो निर्मम दुकानदारी दी है, उसका यह एक नमूना भर है. इसे स्त्री-पुरुष के नज़रिये से नहीं, दमनकर्ता और दमित के नज़रिये से देखना होगा.

Kailash Sharma said...

पुरुष प्रधान समाज में सब दर्द स्त्रियों को ही सहना होता है..बहुत सारगर्भित आलेख...

कालीपद "प्रसाद" said...

आपका विश्लेषण बहुत सही है और मैं आपसे सहमत हूँ lरोबोट टेस्ट हटा दें l

जयकृष्ण राय तुषार said...

बहुत ही गंभीर मुद्दे पर आपका आलेख साधुवाद |हमारे देश की सरकारों के लिए इंसानों की कीमत बस चंद रूपये होती है कभी अपराधियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं होती है |भ्रष्टाचार और भी अधिक जिम्मेदार है नकली दवाये खाद्य सामग्री सभी बाज़ार में बिना रोक टोक उपलब्ध हैं सरकारें और अफसर पैसा बटोरने में मस्त हैं हम अगर जीवित हैं तो ईश्वर की कृपा से |

मनोज कुमार said...

इस घटना ने कई विचारणीय मुद्दे हमारे सामने खड़े किए हैं, जिस पर अपने बड़ी गम्भीरता से चर्चा की है।

Rakesh Kumar said...

बहुत ही ज्वलन्त मुद्दे को आपने उठाया है.दिल पर ठेस लगती है ऐसी दुर्घटनाओं से जिसका कारण हद दर्जे की लापरवाही और वाह वाही लूटना ही रहा.सभी को गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है.

ऋता शेखर मधु said...

पुरुष और स्त्री मानसिकता की सही तस्वीर दिखाई जेन्नी जी, चौदह महिलाओं की मौत बहुत गंभीर बात है वो भी डाक्टर की लापरवाही से, इस तरह की घटनाएँ बहुत सारे सवाल खड़ी करती हैं...जागरुकता भरे आलेख के लिए बहुत बधाई !!

Awadhesh Kumar said...

इस घटना सी मीडिया भरा पड़ा है , सबकी दृष्टि एक ही है । मुझे तो लगता है की स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में सभी सरकारी संस्थाएं मक्कारी और भृस्टाचार में आकंठ डूबी हुई हैं यह मौत का तांडव में तब बहुत नजदीकी से देख पाया जब मैं भारत सरकार के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी के पद पर गावों की पीएचसी और सीएचसी और सीएमओ दफ्तर जाकर इनके व्योरे पर रिपोर्ट तैयार करता था । नकली दवा , झोला छाप मुन्ना भाई के हाथो से मासूमो की गर्दन कैसे बचे । सब बड़ा मुश्किल और दुखदाई है , जेनी जी ।

कौशलेन्द्र said...

इस पोस्ट पर टिप्पणी करना ख़तरे से ख़ाली नहीं है। इसलिये हम पतली गली से निकलते हुये सिर्फ़ तकनीकी पक्ष पर इतना कहना चाहेंगे कि वैसेक्टोमी के स्थान पर आजकल नॉन स्कैल्पल वैसेक्टोमी की जाती है जो पूर्वापेक्षा और अधिक सुरक्षित और आसान है । ऑपरेशन के समय ही दोनो पक्षों को फ़िज़ियोलॉजिकल फ़ैक्ट बता दिया जाना चाहिये कि पुरुष नसबन्दी के बाद भी जब तक वास डिफ़रेंस में शुक्राणु रहेंगे तब तक गर्भधारण सम्भव है । इसलिए पर्याप्त समय तक सहवास से बचना ही होगा । यूँ सबसे अच्छा तरीका यह है कि सीमेन टेस्ट में जब शुक्राणु की संख्या शून्य हो जाय तो सहवास सुरक्षित होगा । यदि स्त्री गर्भवती हो जाती है तो पैटरनिटी के लिये पत्नी पर संदेह करने के स्थान पर अपना सीमेन टेस्ट करवा लेना चाहिये ।

Mukesh Kumar Sinha said...

ऐसे अच्छे दिन किस काम के ....

Mukesh Kumar Sinha said...

अच्छे दिनों का मतलब शायद यही है !!

Anupama Tripathi said...

प्रभावशाली आलेख है ........कहने पढ़ने से कुछ हल्का फर्क पढ़ सकता है किन्तु मानसिकता बदलना इतना आसान भी नहीं जेन्नीजी !!हाँ अलबत्ता आपका आलेख इस ओर एक सार्थक कदम है !!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

SUMIT PRATAP SINGH said...
विचारणीय आलेख...

त्वरित टिप्पणी के लिए शुक्रिया सुमित जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

vibha rani Shrivastava said...
आपके आलेख में कई बात है जिनसे मैं सहमत हूँ

आंशिक ही सही सहमति के लिए बहुत आभार विभा जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

shikha varshney said...
सदियों की रूड़ीवादी मानसिकता है जेन्नी जी. बदलने में न जाने कितना वक्त लगेगा अभी. दुखद है पर दिल्ली अभी बहुत दूर है :(

हाँ, दिल्ली तो सच में दूर ही नहीं बहुत दूर है, जाने अभी कितने युग...
टिप्पणी के लिए धन्यवाद शिखा जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

विजय कुमार सिंघल said...
बहुत अच्छे विचार !


टिप्पणी के लिए बहुत आभार विजय जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Mahesh Barmate said...
पुरुष प्रधान समाज की सच्चाई को प्रदर्शित करता सार्थक लेख..


आपका बहुत धन्यवाद महेश जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

इष्ट देव सांकृत्यायन said...
यह स्त्रियों ही नहीं, समग्रता में मनुष्यता का संहार है. जनसंहार कहा जाना चाहिए इसे. वैश्वीकरण के नाम पर आए बेलगाम पूंजीवाद ने हमें चिकित्सा और शिक्षा व्यवस्था के नाम पर जो निर्मम दुकानदारी दी है, उसका यह एक नमूना भर है. इसे स्त्री-पुरुष के नज़रिये से नहीं, दमनकर्ता और दमित के नज़रिये से देखना होगा.
______________________


इष्ट देव सांकृत्यायन जी,
आपने सही कहा कि इसे स्त्री पुरुष के नज़रिए से नहीं बल्कि दमनकर्ता और दमित के नज़रिए से देखना चाहिए. सरकारी तंत्र की निर्ममता स्त्री पुरुष दोनों के लिए बराबर है. मेरा सवाल है कि नसबंदी के लिए स्त्री ही क्यों, पुरुष क्यों नहीं? सार्थक टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Kailash Sharma said...
पुरुष प्रधान समाज में सब दर्द स्त्रियों को ही सहना होता है..बहुत सारगर्भित आलेख...
_______________

सार्थक टिप्पणी और सराहना के लिए बहुत शुक्रिया कैलाश शर्मा जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

कालीपद "प्रसाद" said...
आपका विश्लेषण बहुत सही है और मैं आपसे सहमत हूँ lरोबोट टेस्ट हटा दें l

____________________

मेरे विचार से सहमत होने व टिप्पणी के लिए धन्यवाद कालीपद प्रसाद जी.
कई बार अनुपयुक्त टिप्पणी आ जाती है और ध्यान नहीं जा पाता. इसलिए टिप्पणी मॉडरेशन में किया हुआ है.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

जयकृष्ण राय तुषार said...
बहुत ही गंभीर मुद्दे पर आपका आलेख साधुवाद |हमारे देश की सरकारों के लिए इंसानों की कीमत बस चंद रूपये होती है कभी अपराधियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं होती है |भ्रष्टाचार और भी अधिक जिम्मेदार है नकली दवाये खाद्य सामग्री सभी बाज़ार में बिना रोक टोक उपलब्ध हैं सरकारें और अफसर पैसा बटोरने में मस्त हैं हम अगर जीवित हैं तो ईश्वर की कृपा से |
_____________________________

हाँ बस यही कह सकते हैं. क्योंकि सरकार और सरकारी तंत्र इस कदर भ्रष्टाचार में लिप्त है कि हम सभी मूक दर्शक भर रह गए हैं विकल्पहीन. टिप्पणी के लिए बहुत आभार जयकृष्ण जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

मनोज कुमार said...
इस घटना ने कई विचारणीय मुद्दे हमारे सामने खड़े किए हैं, जिस पर अपने बड़ी गम्भीरता से चर्चा की है।

__________________

सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद मनोज जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Rakesh Kumar said...
बहुत ही ज्वलन्त मुद्दे को आपने उठाया है.दिल पर ठेस लगती है ऐसी दुर्घटनाओं से जिसका कारण हद दर्जे की लापरवाही और वाह वाही लूटना ही रहा.सभी को गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है.
_________________________

हमारी जनता को जागरूक होना ही होगा, तभी कोई उम्मीद दिख सकती है. टिप्पणी के लिए धन्यवाद राकेश जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

ऋता शेखर मधु said...
पुरुष और स्त्री मानसिकता की सही तस्वीर दिखाई जेन्नी जी, चौदह महिलाओं की मौत बहुत गंभीर बात है वो भी डाक्टर की लापरवाही से, इस तरह की घटनाएँ बहुत सारे सवाल खड़ी करती हैं...जागरुकता भरे आलेख के लिए बहुत बधाई !!
___________________

मेरे विचार को आपकी सहमति मिली, बहुत धन्यवाद ऋता जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Awadhesh Kumar said...
इस घटना सी मीडिया भरा पड़ा है , सबकी दृष्टि एक ही है । मुझे तो लगता है की स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में सभी सरकारी संस्थाएं मक्कारी और भृस्टाचार में आकंठ डूबी हुई हैं यह मौत का तांडव में तब बहुत नजदीकी से देख पाया जब मैं भारत सरकार के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी के पद पर गावों की पीएचसी और सीएचसी और सीएमओ दफ्तर जाकर इनके व्योरे पर रिपोर्ट तैयार करता था । नकली दवा , झोला छाप मुन्ना भाई के हाथो से मासूमो की गर्दन कैसे बचे । सब बड़ा मुश्किल और दुखदाई है , जेनी जी ।
_________________________

आपने खुद नज़दीक से यह सब देखा है; सच में कई बार लगता है कि हम सब कितने लाचार हैं. सरकारी तंत्र में इतनी बेईमानी भर गई है कि आम इंसान की ज़िन्दगी की कीमत कुछ भी नहीं और न उनके दर्द से कोई मतलब है इन्हें. बड़ी तकलीफ होती है यह सब देख कर. प्रतिक्रिया के लिए आभार अवधेश जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

कौशलेन्द्र said...
इस पोस्ट पर टिप्पणी करना ख़तरे से ख़ाली नहीं है। इसलिये हम पतली गली से निकलते हुये सिर्फ़ तकनीकी पक्ष पर इतना कहना चाहेंगे कि वैसेक्टोमी के स्थान पर आजकल नॉन स्कैल्पल वैसेक्टोमी की जाती है जो पूर्वापेक्षा और अधिक सुरक्षित और आसान है । ऑपरेशन के समय ही दोनो पक्षों को फ़िज़ियोलॉजिकल फ़ैक्ट बता दिया जाना चाहिये कि पुरुष नसबन्दी के बाद भी जब तक वास डिफ़रेंस में शुक्राणु रहेंगे तब तक गर्भधारण सम्भव है । इसलिए पर्याप्त समय तक सहवास से बचना ही होगा । यूँ सबसे अच्छा तरीका यह है कि सीमेन टेस्ट में जब शुक्राणु की संख्या शून्य हो जाय तो सहवास सुरक्षित होगा । यदि स्त्री गर्भवती हो जाती है तो पैटरनिटी के लिये पत्नी पर संदेह करने के स्थान पर अपना सीमेन टेस्ट करवा लेना चाहिये ।
___________________________

जब पुरुष अपनी कामुकता पर नियंत्रण नहीं रख पाता और अपने ही नाते रिश्ते को कलंकित कर देता है वैसे में सुरक्षित सहवास का पाठ सिखाना क्या संभव है? एक डॉक्टर के रूप में आपने नसबंदी का पक्ष रखा है पर प्रायोगिक तौर पर यह मुमकिन कहाँ होता है. शिक्षा की हालत हमारे देश में क्या है सर्वविदित है. नसबंदी के लिए ये राजी हुए यही क्या कम है. कितना भी आसान हो स्त्री की नसबंदी का ऑपरेशन पुरुष की तुलना में कठिन है. पति के ऑपरेशन के बाद यदि पत्नी गर्भवती होती है तो पैटरनिटी के लिए सीमेन टेस्ट भी परोक्ष रूप में पत्नी के चरित्र पर संदेह का ही रूप हुआ न.
टिप्पणी के साथ ही जानकारी देने के लिए बहुत आभार कौशलेन्द्र जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Mukesh Kumar Sinha said...
ऐसे अच्छे दिन किस काम के ....

अच्छे दिनों का मतलब शायद यही है !!

____________________

सच अब लगता है कि अच्छे दिन यही है, हर कुकर्म अब और भी पूरे जोर पर है. निराशा, दुःख और आक्रोश एक साथ होता है. यहाँ आने के लिए धन्यवाद मुकेश.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Anupama Tripathi said...
प्रभावशाली आलेख है ........कहने पढ़ने से कुछ हल्का फर्क पढ़ सकता है किन्तु मानसिकता बदलना इतना आसान भी नहीं जेन्नीजी !!हाँ अलबत्ता आपका आलेख इस ओर एक सार्थक कदम है !!
_______________________________

मानसिकता ही तो नहीं बदलती है. क्योंकि इस मामले शिक्षा अशिक्षा की बात ही नहीं न अमीरी गरीबी की बात है. अलिखित नियम बन चूका है कि जितनी पीड़ा हो बस स्त्री झेले. और दूसरी तरफ सरकार की अमानवीयता.
सार्थक टिप्पणी के लिए बहुत शुक्रिया अनुपमा जी.

Asha Joglekar said...

आपने ठीक कहा शोषित वर्ग की स्त्री जो सबसे ज्यादा शोषित है इस तरह के अत्याचारों की वही बली चढती है। स्त्री होना ही अभिशाप है और गरीब स्त्री होना तो.......। कब संवेदनशील होंगे हम, कब जागेंगे।

ashok andrey said...

आपका यह सारगर्भित आलेख मन को झिंझोड़ता है.इस लेख में उठाये गये सभी प्रश्न हमारे समाज की कुंठित सोच को ही उजागर करता है.जहां पुरुष अपनी साड़ी कुंठाए स्त्री पर थोप कर चैन की नीद सोता है और समाज के तथाकथित ठेकेदार भी इसी सोच को हमेशा पल्लवित करते दीखाई देते हैं.हमारी युवा पीढ़ी को आगे आकर इस सोच को बदलना होगा.
आपके इस सार्थक लेख के लिए मैं आपको साधुवाद कहना चाहता हूँ.

Satish Saxena said...

गंभीर आलेख , आभार आपका !!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Asha Joglekar said...
आपने ठीक कहा शोषित वर्ग की स्त्री जो सबसे ज्यादा शोषित है इस तरह के अत्याचारों की वही बली चढती है। स्त्री होना ही अभिशाप है और गरीब स्त्री होना तो.......। कब संवेदनशील होंगे हम, कब जागेंगे।
____________________

यही सब से तो मन और ज्यादा व्यथित हो जाता है, हर तरफ से स्त्री ही शोषित होती है. यहाँ तो गरीबी और स्त्री दोनों एक साथ है. मेरे विचार से सहमति के लिए आपका आभार आशा जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

ashok andrey said...
आपका यह सारगर्भित आलेख मन को झिंझोड़ता है.इस लेख में उठाये गये सभी प्रश्न हमारे समाज की कुंठित सोच को ही उजागर करता है.जहां पुरुष अपनी साड़ी कुंठाए स्त्री पर थोप कर चैन की नीद सोता है और समाज के तथाकथित ठेकेदार भी इसी सोच को हमेशा पल्लवित करते दीखाई देते हैं.हमारी युवा पीढ़ी को आगे आकर इस सोच को बदलना होगा.
आपके इस सार्थक लेख के लिए मैं आपको साधुवाद कहना चाहता हूँ.
____________________________

सरकारी असंवेदनशीलता और इसके कारण मृत्यु बड़ी दुखद धटना है. एक तरफ स्त्री पर परमपराओं की सारी जिम्मेवारी है जिसे चाहे तो पुरुष खुद पर ले सकते हैं लेकिन राहत देने की बजाय वे पीछे हट जाते हैं, दूसरी तरफ सरकार का क्रूर व्यवहार... जाने कब सोच बदलेगी. टिप्पणी के लिए बहुत आभार अशोक जी.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Satish Saxena said...
गंभीर आलेख , आभार आपका !!
________________________

मेरे लेख पर टिप्पणी देने के लिए धन्यवाद सतीश जी.

ashok andrey said...

आपका यह सारगर्भित आलेख मन को झिंझोड़ता है.इस लेख में उठाये गये सभी प्रश्न हमारे समाज की कुंठित सोच को ही उजागर करता है.जहां पुरुष अपनी सारी कुंठाए स्त्री पर थोप कर चैन की नीद सोता है और समाज के तथाकथित ठेकेदार भी इसी सोच को हमेशा पल्लवित करते दीखाई देते हैं.हमारी युवा पीढ़ी को आगे आकर इस सोच को बदलना होगा.
आपके इस सार्थक लेख के लिए मैं आपको साधुवाद कहना चाहता हूँ.

Maheshwari kaneri said...

vicharniy aalekh. Aabhar

कहकशां खान said...

बिलकुल सही कहा आपने कि यह सामूहिक नारीसंहार है।

डॉ. जेन्नी शबनम said...

ashok andrey said...
आपका यह सारगर्भित आलेख मन को झिंझोड़ता है.इस लेख में उठाये गये सभी प्रश्न हमारे समाज की कुंठित सोच को ही उजागर करता है.जहां पुरुष अपनी सारी कुंठाए स्त्री पर थोप कर चैन की नीद सोता है और समाज के तथाकथित ठेकेदार भी इसी सोच को हमेशा पल्लवित करते दीखाई देते हैं.हमारी युवा पीढ़ी को आगे आकर इस सोच को बदलना होगा.
आपके इस सार्थक लेख के लिए मैं आपको साधुवाद कहना चाहता हूँ.

27 December 2014 at 12:23 pm
_________________________________

अशोक आंद्रे जी,
मेरे लेख पर दोबारा आपकी प्रतिक्रया पाकर हर्षित हूँ. आपके स्नेह और सराहना के लिए आभार!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Maheshwari kaneri said...
vicharniy aalekh. Aabhar

23 February 2015 at 4:35

_____________________________

आपकी प्रतिक्रया पाकर ख़ुशी हुई, मन से आभार!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

कहकशां खान said...
बिलकुल सही कहा आपने कि यह सामूहिक नारीसंहार है।

24 February 2015 at 12:17 am

_______________________

प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद!