Friday, January 15, 2021

83. मेरी दूसरी पुस्तक 'प्रवासी मन' (हाइकु संग्रह)

7 जनवरी 2021 को मेरी दूसरी पुस्तक 'प्रवासी मन' (हाइकु-संग्रह) प्रकाशित हुई है। मेरी पहली पुस्तक ‘लम्हों का सफ़र‘ (कविता-संग्रह) का लोकार्पण 7 जनवरी 2020 में पुस्तक मेले में हुआ था। सुखद यह है कि आज के दिन मेरी बेटी का जन्मदिन है और इसी दिन मेरी दोनों पुस्तकें एक साल के अंतराल में आईं हैं। 

 


10 जनवरी 2021 को विश्व हिन्दी दिवस के अवसर पर 'हिन्दी हाइकु' एवं 'शब्द सृष्टि' के संयुक्त तत्वाधान में गूगल मीट और फेसबुक पर आयोजित पहला ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मलेन हुआ, जिसमें मेरी पुस्तक 'प्रवासी मन' का लोकार्पण हुआ। कार्यक्रम में देश विदेश के हाइकुकार एवं साहित्यकार सम्मिलित हुए। श्री रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु', डॉ. कुमुद बंसल, डॉ. कुँवर दिनेश सिंह और डॉ. हसमुख परमार ने हिन्दी हाइकु पर अपने वक्तव्य दिए। डॉ. पूर्वा शर्मा ने इसका संचालन किया। मेरे लिए ख़ास बात यह भी रही कि मैं पहली बार ऑनलाइन लाइव कार्यक्रम में सहभागी हुई। मेरे अतिरिक्त अनिता ललित, अनिता मण्डा, कमला निखुर्पा, डॉ कविता भट्ट, कृष्णा वर्मा, डॉ. शैलजा सक्सेना, भावना सक्सैना, शशि पाधा, रचना श्रीवास्तव, रमेश कुमार सोनी, सुदर्शन रत्नाकर, ज्योत्स्ना प्रदीप, ऋताशेखर मधु, प्रियंका गुप्ता, डॉ. सुरंगमा यादव, डॉ. शिवजी श्रीवास्तव शामिल हुए।
'प्रवासी मन' मेरा प्रथम हाइकु-संग्रह है, जिसमें 1060 हाइकु हैं। दस साल में जितने भी हाइकु लिखी हूँ सभी को क्रमानुसार इसमें शामिल किया है। पुस्तक में 120 पृष्ठ हैं। यह संग्रह अयन प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित हुआ है। 
 
मेरे हाइकु लेखन और इसे पुस्तक के रूप में शाया होने के सफ़र की कहानी भी बहुत रोचक है। एक साल लगे मुझे पहला हाइकु लिखने में और 10 साल लगे अपने प्रवासी मन को पुस्तक रूपी घर देने में। 

हाइकु ऐसे / चंद लफ़्ज़ों में पूर्ण / ज़िन्दगी जैसे! 

ओशो (आचार्य रजनीश) की पुस्तकों और प्रवचनों में ज़ेन, बाशो, हाइकु इत्यादि की चर्चा रहती है। उनको पढ़ते-पढ़ते हाइकु पढ़ना मुझे अच्छा लगने लगा; पर इस विधा में कभी लिखूँगी यह मैंने कभी सोचा न था। 

विख्यात साहित्यकार एवं अवकाशप्राप्त प्राचार्य आदरणीय रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' जी ने सन 2010 मेरी कोई कविता अंतर्जाल पर पढ़ी। मुझमें हाइकु-लेखन की संभावना दिखी उन्हें, तो उन्होंने मुझसे संपर्क किया। हाइकु से सम्बन्धित लेख पढ़ने को दिए तथा इसे लिखना समझाया।अब किसी नियम के तहत कुछ लिखना मेरे बस में तो था ही नहीं। इतने कम शब्दों में मन के भाव को पाबन्दी के साथ पिरोना मुझे लगा असंभव है, नहीं लिख पाऊँगी। श्री काम्बोज जी ने मुझे अपनी छोटी बहन माना और हर संभव प्रयास किया कि मैं सिर्फ़ हाइकु ही नहीं बल्कि साहित्य की हर विधा में पारंगत हो सकूँ। उन्होंने मुझसे हाइकु लिखवाने का जैसे प्रण लिया हो। वे मुझे प्रोत्साहित करते थे कि बहन आप लिख सकती हैं, आपमें क्षमता है, आप लिख लेंगी। वे आश्वस्त थे कि मैं एक दिन हाइकुकार बनूँगी। 

मैं शर्मिन्दा थी कि ढेरों रचनाएँ लिखी, पर 5+7+5 वर्णक्रम की तीन पंक्तियों की नन्ही-सी कविता क्यों नहीं लिख पा रही हूँ। अंततः 24 मार्च 2011 को ट्रेन में सफ़र के दौरान बाहर का दृश्य देखते हुए अचानक मन में शब्द व भाव जन्म लेने लगे और मैंने कई हाइकु लिख दिए। मुझे लगा जैसे मैंने वैतरणी पार कर ली हो। काम्बोज भैया को अति उत्साह से फ़ोन किया। मुझसे अधिक वे मेरी सफलता पर प्रसन्न हुए। अंततः मैं हाइकु-लेखन की परीक्षा में उतीर्ण हो गई। मेरा प्रथम हाइकु, जो मैंने लिखा - 

लौटता कहाँ / मेरा प्रवासी मन / कोई न घर! 

काम्बोज भैया के आदेश, निर्देश, मार्गदर्शन, सहयोग, प्रेरणा, प्रोत्साहन और स्नेह का परिणाम है कि मैंने न सिर्फ़ हाइकु लिखना सीखा; बल्कि ताँका, सेदोका, चोका, माहिया भी लिखे। काम्बोज भैया की छत्र-छाया में मैंने बहुत सीखा है और उनके आशीष का प्रतिफल है कि मेरी रचनाएँ देश-विदेश का सफ़र करती रहती हैं। काम्बोज भैया की आजीवन कृतज्ञ रहूँगी, जिन्होंने अति व्यस्ततम समय में भी इस पुस्तक की भूमिका को लिखने के साथ ही पुस्तक प्रकाशन से सम्बन्धित सारे कार्य बड़े भाई के रूप में किए हैं। एक हाइकुकार के रूप में काम्बोज भैया ने ही मुझे स्थापित किया है। काम्बोज भैया न सिर्फ मेरे बड़े भाई हैं; बल्कि साहित्य के सफ़र में मेरे गुरु भी हैं। यह पुस्तक मैं उन्हें समर्पित की हूँ। 

आदरणीया डॉ. सुधा गुप्ता जी हाइकु-जगत् के लिए आदर्श हैं। सुधा गुप्ता जी ने मुझे शुभकामनाएँ एवं आशीष दिया है; जो हस्तलिखित है और उसी रूप में पुस्तक में शामिल है। 
आदरणीय रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु‘ जी, जिनसे मैंने हाइकु लिखना सीखा; ने मेरी इस पुस्तक की भूमिका लिखी है। गद्य कोश में भूमिका प्रकाशित है, जिसका लिंक है - 

- डॉ. जेन्नी शबनम (14. 1. 2021)  
__________________________________________________

Monday, November 16, 2020

82. अधूरे सपनों की कसक

जून 2019 की बात है, एक दिन हमारी ब्लॉगर मित्र श्रीमती रेखा श्रीवास्तव जी का सन्देश प्राप्त हुआ कि वे कुछ ब्लॉगारों के 'अधूरे सपनों की कसक' शीर्षक से अपने संपादन में एक पुस्तक प्रकाशन की योजना बना रही हैं; अतः मैं भी अपने अधूरे सपनों की कसक पुस्तक के लिए लिख भेजूँ। अपने कुछ अधूरे सपनों को याद करने लगी, जो अक्सर मुझे टीस देते हैं। यूँ सपने तो हज़ारों देखे मैंने, मगर कुछ ऐसी ही तक़दीर रही, मानो नींद में सपना देखा और जागते ही सब टूट गया हो। कुछ सपने ऐसे भी देखी जिनको पूरा करने की दिशा में न कोई कोशिश की न एक कदम भी आगे बढ़ाया। कुछ सपने जिनके लिए कोशिश की, मगर वे अधूरे रह गए। मेरे ये कुछ अधूरे सपने 'अधूरे सपनों की कसक' पुस्तक में शामिल है, जिसे ज्यों का त्यों प्रेषित कर रही हूँ; इस विश्वास के साथ कि कोई भी मुझे यहाँ पढ़ें, वे अपने सपनों को पूरा करने में अवश्य लग जाएँ, अन्यथा उम्र भर टीस रह जाएगी। अगर सपने पूर्ण न हो सकें, तो कम-से-कम यह संतोष तो रहेगा कि हमने कोशिश तो की थी। अन्यथा आत्मविश्वास ख़त्म होने लगता है और जीवन के दुरूह राहों से समय से पहले ही भाग जाने को मन तत्पर रहता है
 अधूरे सपनों की कसक
 
*******

अपने छूटे   
सब सपने टूटे,   
जीवन बचा   

सपने देखने की उम्र कब आई कब गुजर गई, समझ न सकी। 1978 में जब मैं 12 वर्ष की थी, पिता गुजर गए तब अचानक यूँ बड़ी हो गई, जिसमें सपनों के लिए कोई जगह नहीं बची पिता के गुजर जाने के बाद एक-एक कर मैंने शिक्षा की उच्च डिग्रियाँ हासिल की, और तब भविष्य के लिए कुछ सपने भी सँजोने लगी।   

कैसी पहेली   
ज़िन्दगी हुई अवाक्   
अनसुलझी।   

मेरे पिता यूनिवर्सिटी प्रोफेसर थे बचपन में उनकी ज़िन्दगी को देखकर उनकी तरह ही बनने का सपना देखने लगी; जब मैं कॉलेज में पढती थी 1993 में बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन में राजकीय महिला पॉलिटेकनिक में व्याख्याता के पद के लिए आवेदन किया था। मेरा स्थाई पता तब भी भागलपुर ही था, और उसी पते पर पत्राचार होता था उन दिनों मैं गुवाहाटी में अपने ससुराल में रह रही थी मुझे अपने प्रमाण पत्रों के साथ निश्चित तिथि को बुलाया गया था गुवाहाटी में होने के कारण मैं वक़्त पर पटना न जा सकी क्योंकि मेरा बेटा भी उस समय कुछ माह का ही था कुछ महीने के बाद दोबारा कॉल लेटर आया कि मैं अपने प्रमाण पत्रों के साथ उपस्थित होऊँ मैं जब तक पटना आई तब तक वह तिथि भी बीत गईफिर भी मैंने निवेदन किया कि चूकि मैं भागलपुर में नहीं थी अतः उपरोक्त तिथि पर उपस्थित न हो सकी, इसलिए एक बार पुनः विचार किया जाए संयोग से मेरे आवेदन पर विचार हुआ और मुझे सभी प्रमाण पत्र जमा करने और कॉल लेटर की प्रतीक्षा करने को कहा गया ऐसा दुर्भाग्य रहा कि मुझे उसी दौरान दिल्ली लौट जाना पड़ा और मिली हुई नौकरी मेरे हाथ से निकल गई अब तक इस बात का पछतावा है कि मैं उस समय पटना से बाहर क्यों गई मेरे स्थान पर किसी और को नौकरी मिल गई होगी, इस बात की ख़ुशी है पर अपने सपने के अधूरे रह जाने का मलाल भी बहुत है   

ताकती रही   
जी गया कोई और   
ज़िन्दगी मेरी। 
 
1995 में 'बिहार एलिजिबिलिटी टेस्ट फॉर लेक्चरशीप' (B E T) की लिखित परिक्षा मैंने पास की इंटरव्यू से पहले पता चला कि बिना पैसे दिए इंटरव्यू में सफल नहीं हो सकते हैं मैंने अपने विचार के विरुद्ध और वक़्त के अनुसार पचास हज़ार रुपये का प्रबंध किया. चूँकि उनदिनों हमारी आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब थी इस लिए यह नौकरी मुझे हर हाल में चाहिए थी तथा मेरे पसंद का कार्य भी था लेकिन ऐसा कोई व्यक्ति मुझे न मिल सका जो पैसे लेकर नौकरी दिला पाने की गारंटी देता मुझे यह डर भी था कि यदि पैसे भी चले गए और नौकरी भी न मिली तो उधार के पैसे कैसे वापस लौटाऊँगी यूँ मेरी माँ और भाई से लिए पैसे मुझे नहीं लौटाने थे लेकिन ससुराल पक्ष के एक रिश्तेदार से लिए पैसे मुझे लौटाने ही होते। अंततः घूस के लिए मैंने पैसे नहीं दिए इंटरव्यू दिया और मैं सफल रही कुल 15 सीट के लिए वैकेन्सी थी और मुझे 12 वाँ स्थान मिला था मैं बहुत खुश थी कि बिना घूस दिए मेरा चयन हो गया और मैं अपने सपने को पूरा कर पाई बाद में पता चला कि सिर्फ 11 लोगों को ही लिया गया और शेष 4 सीट को वैकेंट छोड़ दिया गया मुमकिन है पैसे नहीं देने के कारण हुआ हो या फिर राजनितिक हस्तक्षेप के कारण मेरे सपने टुकड़ों-टुकड़ों में बिखर गए जब-जब 'बी. ई. टी'  (B E T) का प्रमाणपत्र और पोलिटेक्निक का कॉल लेटर देखती हूँ तो मन के किसी कोने में ऐसा कुछ दरकता है जिसकी आवाज़ कोई नहीं सुनता लेकिन वह कसक मुझे चैन से सोने नहीं देती है।   

ओ मेरे बाबा !   
तुम हो गए स्वप्न   
छोड़ जो गए |

यूँ तो मेरी ज़िन्दगी में बहुत सारी कमियाँ रह गईं जिनकी टीस मन से कभी गई नहीं पिता की मृत्यु के बाद उनके मृत शरीर का अंतिम दर्शन, उनका अंतिम स्पर्श नहीं कर पाई, यह कसक आजीवन रहेगी जीवन में एक बहुत बड़ा पछतावा यह भी है कि समय-समय पर मैंने ठोस कदम क्यों न उठाया वक़्त के साथ कुछ सपने ऐसे थे जिसे मैं पाना चाहती थी परन्तु उम्र बढ़ने के साथ-साथ मेरे जीवन में हार और खुद को खोने का सिलसिला शुरू हो गया। आज जब पाती हूँ कि जीवन में सब तरफ से हार चुकी हूँ और असफलता से घिर चुकी हूँ तो अपनी हर मात और कसक मुझे चैन से सोने नहीं देती है पिता नास्तिक थे मैं भी हूँ पर अब किस्मत जैसी चीज में खुद को खोने और खोजने लगी हूँ। नदी के प्रवाह में कभी बह न सकी, अपनी पीड़ा किसी से कह न सकी।

रिसता लहू   
चाक-चाक ज़िन्दगी   
चुपचाप मैं।

- जेन्नी शबनम (29. 6. 2019)

____________________________________________________

Thursday, November 5, 2020

81. राम चन्द्र वर्मा 'साहिल' जी द्वारा 'लम्हों का सफ़र' की समीक्षा

 

आदरणीय राम चन्द्र वर्मा 'साहिल' जी जो विख्यात कवि एवं ग़ज़लकार हैं तथा महानगर टेलीफ़ोन निगम लिमिटेड से अवकाश प्राप्त अधिकारी हैं, ने मेरी पुस्तक 'लम्हों का सफ़र' की बहुत सुन्दर और सार्थक समीक्षा की है। उन्होंने एक नहीं दो बार मेरी पुस्तक को पढ़ा है, इसका कारण वे ख़ुद बता रहे हैं। मैं हृदय तल से कृतज्ञ हूँ कि उन्होंने मेरी रचनाओं को तथा मुझे इतना मान दिया है। साहिल जी का स्नेह और आशीष सदा यूँ ही मुझे मिलता रहे यही कामना है। साहिल जी को आभार के साथ, उनके द्वारा की गई समीक्षा प्रस्तुत कर रही हूँ।  
 - जेन्नी शबनम 
'लम्हों का सफ़र' की समीक्षा 
- राम चन्द्र वर्मा 'साहिल' 

देर-आयद, दुरुस्त-आयद - इस लोकोक्ति का अर्थ प्रायः यह लिया जाता है कि देर से तो आए, चलो आए तो सही। परन्तु मैं मज़ाक के तौर पर इसका अर्थ ऐसे करता हूँ कि जो भी देर से आया या जो कार्य देर से किया गया, वही दुरुस्त है। ऐसा इसलिए भी कह रहा हूँ कि जिस कविता-संग्रह (लम्हों का सफ़र) का मैं यहाँ उल्लेख कर रहा हूँ, डॉ. जेन्नी शबनम का यह संग्रह मुझे बहुत समय पहले मिला था। पढ़ने के बाद मुझे लगा कि इसके विषय में मुझे जो भी लिखना था शायद मैं लिख कर शबनम जी के पास भेज चुका हूँ। परन्तु यह मेरी चूक थी, ऐसा हुआ नहीं था; यह बहुत बाद में मुझे आभास हुआ। इस चूक के लिये क्षमाप्रार्थी हूँ। 
इस संग्रह की प्रायः सभी रचनाएँ मैं पढ़ चुका था। अब क्योंकि समय बहुत बीत गया, रचनाएँ फिर से पढ़ीं। हर रचना के अवलोकन पर ऐसा लगा जैसे किसी अलग ही दुनिया में पहुँच गया हूँ। हर रचना अपने आप में अनूठी तथा अपने अन्दर बहुत कुछ समेटे हुए लगी। कुछ रचनाओं का उल्लेख बहुत ही आवश्यक लग रहा है, जैसे - 
पहली कविता 'जा तुझे इश्क़ हो', इसका शीर्षक ही ऐसा दिया गया है जो कुछ सोचने पर विवश कर देता है। जैसे यह प्यार में बहुत गहरी चोट खाए किसी प्रेमी के दिल से निकली आह हो। और जो कुछ उसने भुगता है वह चाहता है कि सामने वाला भी इसे भुगते। इसकी ये पंक्तियाँ देखिए - 
''तुम्हें आँसू नहीं पसंद / चाहे मेरी आँखों के हों / या किसी और के / चाहते हो हँसती ही रहूँ / भले ही वेदना से मन भरा हो / ... कैसे इतने सहज होते हो / फ़िक्रमंद भी हो और / बिंदास हँसते भी रहते हो।''

'पगडंडी और आकाश', इसके भी अंश देखिएगा -
''पगडंडी पर तुम चल न सकोगे / उस पर पाँव-पाँव चलना होता है / और तुमने सिर्फ़ उड़ना जाना है।...
हथेली पर आसमान को उतारना / तुम अपनी माटी को जान लेना / और मैं उस माटी से बसा लूँगी एक नयी दुनिया / जहाँ पगडंडी और आकाश / कहीं दूर जाकर मिल जाते हों।''

'बाबा आओ देखो! तुम्हारी बिटिया रोती है', इस रचना में बिटिया की अंतर्वेदना को स्वयं महसूस कीजिए - 
''क्यों चले गए, तुम छोड़ के बाबा / देखो बाप बिन बेटी, कैसे जीती है / बूँद आँसू न बहे, तुमने इतने जतन से पाले थे / देखो आज अपनी बिटिया को, अपने आँसू पीती है।''

'वो अमरूद का पेड़', जहाँ लेखिका कदाचित स्वयं को खोज रही है -
''वह लड़की, खो गई है कहीं / बचपन भी गुम हो गया था कभी / उम्र से बहुत पहले, वक़्त ने उसे / बड़ा बना दिया था कभी / कहीं कोई निशानी नहीं उसकी / अब कहाँ ढूँढूँ उस नन्ही लड़की को?''

'इकन्नी-दुअन्नी और मैं चलन में नहीं', इस रचना में समय का बदलता रूप और उससे उपजी मानव-विवशताओं को शबनम जी ने किस प्रकार उकेरा है -
''वो गुल्लक फोड़ दी / जिसमें एक पैसे दो पैसे, मैं भरती थी / तीन पैसे और पाँच पैसे भी थे, थोड़े उसमें / सोचती थी ख़ूब सारे सपने खरीदूँगी इससे / इत्ते ढेर सारे पैसों में तो, ढेरों सपने मिल जाएँगे /...
अब क्या करूँ इन पैसों का?''

'उठो अभिमन्यु', इस कविता में कवयित्री ने अभिमन्यु के वीर-गति  प्राप्त हो जाने पर गर्भवती अभिमन्यु-पत्नी 'उत्तरा' गर्भ में पल रहे शिशु को कैसी उत्साहवर्द्धक प्रेरणा दे रही है, इसका मार्मिक वर्णन इस पद्यांश में देखिए - 
''क्यों चाहते हो, सम्पूर्ण ज्ञान गर्भ में पा जाओ / क्या देखा नहीं, अर्जुन-सुभद्रा के अभिमन्यु का हश्र / छः द्वार तो भेद लिए, लेकिन अंतिम सातवाँ/  वही मृत्यु का कारण बना / या फिर सुभद्रा की लापरवाह नींद / नहीं-नहीं, मैं कोई ज्ञान नहीं दूँगी / न किसी से सुनकर, तुम्हें बताऊँगी / तुम चक्रव्यूह रचना सीखो / स्वयं ही भेदना और निकलना सीख जाओगे।''

'नन्ही भिखारिन' में शबनम जी का संवेदनशील हृदय नन्ही भिखारिन से बात करते कैसे पीड़ा से रिसता है, देखिए - 
यह उसका दर्द है / पर मेरे बदन में क्यों रिसता है? / या ख़ुदा! नन्ही-सी जान, कौन सा गुनाह था उसका? / शब्दों में ख़ामोशी, आँखों में याचना, पर शर्म नहीं / हर एक के सामने, हाथ पसारती।''

'हँसी, ख़ुशी और ज़िन्दगी बेकार है पड़ी', ज़िन्दगी का क्या चित्रण किया गया है इस रचना में; कुछ पंक्तियाँ देखते चलें - 
हँसी बेकार पड़ी है, यूँ ही एक कोने में कहीं / ख़ुशी ग़मगीन रखी है, ज़ीने में कहीं / ज़िन्दगी गुमसुम खड़ी है, अँगने में कहीं / अपने इस्तेमाल की आस लगाए / ठिठके सहमे से हैं सभी।'' 

इसी प्रकार कई चुनिन्दा कविताएँ हैं जिन्होंने मुझे उद्वेलित किया है। मैं चाहता तो हूँ सभी का थोड़ा-थोड़ा उल्लेख करना, परन्तु डर है कि कहीं ऐसा किया तो मेरी बात बहुत ही लम्बी हो जाएगी जोकि उचित नहीं होगी। हक़ तो शबनम जी का बनता है कि मैं ऐसा करूँ, परन्तु नहीं। मुझे लगता है, विद्वान लेखकों ने भी, जिन्होंने इस पुस्तक की भूमिका लिखी है; इसी तरह न चाहते हुए भी आगे लिखने से अपने हाथ खींच लिए होंगे और उन्हें भी ऐसे ही अफ़सोस हुआ होगा जैसा मुझे हो रहा है। 

अंत में डॉ. शबनम जी की दीर्घायु एवं अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हुए अपनी बात को, न चाहते हुए भी, यहीं समेटता हूँ।

राम चन्द्र वर्मा 'साहिल'
131 - न्यू सूर्य किरण अपार्टमेंट्स
दिल्ली - 110092
मोबाइल  - 9968414848 
तिथि - 2. 11. 2020 
********************************************************************************

Saturday, October 10, 2020

80. संगीता गुप्ता जी एवं अनिल पाराशर 'मासूम' जी की भावनाएँ - मुझे और मेरे 'लम्हों का सफ़र' को

मेरी पुस्तक 'लम्हों का सफ़र' का प्रकाशन इस वर्ष जनवरी माह में हुआ सुश्री संगीता गुप्ता, जिन्होंने मुझे सदैव छोटी बहन-सा स्नेह व संबल दिया है; आयकर विभाग में पूर्व मुख्य आयुक्त थीं तथा बहुत प्रतिष्ठित कवयित्री और चित्रकार हैं उन्होंने न सिर्फ़ अपनी चित्रकारी मुझे दी जो मेरी पुस्तक का आवरण चित्र है बल्कि बहुत सुन्दर और भावपूर्ण शुभकामना सन्देश भी दिया है, जिसे मैं यहाँ प्रेषित कर रही हूँ।  


सन 2008 में मैं ऑरकुट से जुड़ी उन दिनों अनिल पाराशर जी बिड़ला कंपनी में कार्यरत थे और 'मासूम' शायर के नाम से प्रसिद्ध थे, से परिचय हुआ और मुलाक़ात हुई उनके लेखन में गज़ब का भाव होता है, चाहे वे किसी पुरुष की मनोदशा लिखें या स्त्री की मेरी कविताओं में जब भी कभी कोई त्रुटि हुई है तो उन्होंने मुझे सदैव सहयोग दिया है। उन्होंने मेरी पुस्तक की परिचर्चा में एक संक्षिप्त समीक्षात्मक विचार दिए हैं, जिसे मैं यहाँ प्रेषित कर रही हूँ। 
_______________________________________________  

संगीता दी और मैं 

जीवन के विविध रंग 
- संगीता गुप्ता  

'लम्हों का सफ़र' जेन्नी शबनम का पहला कविता-संग्रह है, पर संकलित कविताएँ एक लम्बे जिए जीवन का बयान है। स्त्री बोध में कभी अपने पिता को याद करती नन्ही बिटिया है, कभी अमरुद के पेड़ पर चढ़ती नटखट लड़की है, जो पेड़ को ही याद नहीं करती; बल्कि उस अल्हड़ बचपन को खोने का दंश भी महसूसती है। असमय गुज़रे पिता की कमी सिर्फ़ उसकी ही नहीं, उसकी माँ की भी क्षति है। माँ हारती नहीं, अकेले ही सब करती है; पर हँसना भूल जाती है। जेन्नी की कविताएँ एक संवेदनशील स्त्री की त्रासदी से उपजी टीस हैं। प्रेम करती स्त्री की अपेक्षाएँ, सपने क़दम-क़दम पर टूटते ही हैं, यह शाश्वत सत्य है; पर उनको शब्दों में पिरोने का हुनर जेन्नी को सहज उपलब्ध है। उनकी कविताएँ भोगे हुए यथार्थ से जन्मी है। 
 
जीवन एक यात्रा है, जिस पर सब चलते हैं, कभी उमगकर, कभी हताश होकर, कभी ज़िद में भरकर, कभी यादों के सहारे, कभी किसी का फ़लसफ़ा पढ़कर। चलना तो सतत है और स्त्री चलती है, कभी पिता की ऊँगली पकड़कर, कभी प्रेम की बाँह थामकर और कभी बच्चा उसकी ऊँगली पकड़कर चलना सीखता है और कभी वह इस सच से डरकर भी जीती है कि समय आने पर बेटा उसकी ऊँगली पकड़कर चलेगा या नही।  

एक छोटे क़स्बे से आई लड़की की जीवन से ठनती है और अपनी जंग जीतने का हौसला पैदा करने वाली स्त्री अपने एकांत में उन्हें शब्दों में पिरोकर बरस-दर-बरस सँभालकर रखती है। ऐसे में तय होता है - 'लम्हों का सफ़र'। जेन्नी ने अपने आपको इन कविताओं में जिया, बचाया है। 

जीवन के सारे रंग इस संग्रह के कैनवस पर बिखरे हैं, एक अच्छा पाठक उन्हें अवश्य अपने अनुभव जगत् में पाएगा और सहेजेगा। मेरी अनंत शुभकामनाएँ। जेन्नी सृजन-पथ पर अग्रसर रहे, इस शुभेक्षा के साथ -

संगीता गुप्ता 
15. 10. 2019 
(सफ़दरजंग एन्क्लेव, नई दिल्ली) 
___________________________________________________

सफ़र लम्हों का है 
अनिल जी, उनकी पत्नी शानू जी और मैं 
- अनिल पाराशर 'मासूम'  

कैसा अजीब है, सफ़र लम्हों का है, ऊँगली क़ज़ा की थामे है और ज़िंदगी भर को जारी है। आज हम जेन्नी जी की पुस्तक पर उनकी कविता पर पर बात करने आए हैं, तो एक बात से बात शुरू करता हूँ कि जेन्नी जी की कविताओं की नायिका जिस जीवन को जी रही है या सह रही है वही इनके लम्हों का सफ़र है। इन्होंने ख़ुद एक जगह लिखा है ''कविता लिखना एक कला है, जैसे कि ज़िन्दगी जीना'' ये इनके काव्य की परिभाषा है। इनकी एक कविता में इनकी नायिका एक श्राप को जी रही है, और वो श्राप है इश्क़ और खीज; और वो नायक को श्राप देती है - ''जा तुझे इश्क़ हो।''

इनके इश्क़ में बहुत सादगी है, भौतिक कुछ नहीं चाहिए नायिका को; वो इश्क़ के शुरू के दिनों में पलाश के गहनों से ही सज जाती थी। अब फिर वहीं जाना चाहती हैं अपने मीत से वादा करके कि अब न गहने लेगी न पलाश के पत्ते लाएगी। दरअसल भौतिक जीवन और इश्क़ के बीच रस्साकशी है कविता की आत्मा। नायिका को पता है नायक की मज़बूरी और कविता में कहा भी है ''पगडंडी पर तुम चल न सकोगे, उस पर पाँव-पाँव चलना होता है'', पर नायक उड़ता है चलता नहीं है। थकी नायिका अंत में ऐसी दुनिया की कल्पना भी कर लेती है, जहाँ पगडंडी और आकाश मिलते हैं। ये नायिका के लिए ही नहीं पूरे समाज के लिए एक आशा है।  

जेन्नी जी की कविताओं का एक पहलू इमरोज़-अमृता से प्रभावित होता है। इनका मानना यह है कि हर प्रेम अमृता-इमरोज़ की तरह शुरू होता है, पर समय के साथ औरत वही औरत रहती है मगर हर इमरोज़ पुरुष बन जाता है; और वो औरत पर अधिकार चाहता है बस। इनकी एक कविता की कुछ पंक्तियाँ हैं -
''मर्द ने कहा -
ऐ औरत!
ख़ामोश होकर मेरी बात सुन...''।  

स्त्री को परिभाषित करती एक कविता में बहुत अद्भुत बात कहती हैं जेन्नी जी - ''मैं स्त्री हूँ, मुझे ज़िंदा रखना उतना ही सहज है जितना सहज, मुझे गर्भ में मार दिया जाना''। स्त्री का पूरा चित्र हमारे सामने ये पंक्तियाँ रख देती हैं।  

जीवन के मूल्यों का बदलना भी बहुत मार्मिक तरीके से पुस्तक में कहा गया है कि नायिका बहुत यत्न से जीवन की गुल्लक में लम्हें इकट्ठे कर रही थी। जब उसने गुल्लक तोड़ी तो उस में इकन्नी-दुअन्नी-चवन्नी निकले जिन का चलन ही नहीं रहा, वैसे ही नायिका का चलन भी अब नहीं रहा।  

कल्पना की पराकाष्ठा दिखती है जब अपने पुत्र के 18वें जन्मदिन पर लिखी कविता में जेन्नी जी कहती हैं कि ''मैंने अपनी आँखों पे नहीं / अपनी संवेदनाओं पर पट्टी बाँध रखी है / इसलिए नहीं, कि तुम्हारा शरीर वज्र का कर दूँ / इसलिए कि अपनी तमाम संवेदनाएँ तुममें भर दूँ।'' इसी तरह पुत्री के लिए भी बहुत मार्मिक कविताएँ रची हैं इन्होंने।

अपने पिता और उनके कम्युनिस्ट-विचार से जेन्नी जी बहुत प्रभावित रही हैं। यही कारण है कि प्रेम में भी ये केवल पलाश के बीजों के गहने माँगती हैं। बचपन में गुज़र चुके अपने पिता के लिए प्रेम, ये बिना किसी बनावट के लिखती हैं - ''बाबा आओ देखो! तुम्हारी बिटिया रोती है।''

जेन्नी जी की कविता के शब्द शहर में बड़े हुए हैं, मगर जन्म गाँव के खेत खलिहानों में लिया है। जैसे कि वे लिखती हैं - बिरवा, बकरी का पगहा, रास्ता अगोरा तुमने आदि।

ऐसी अमूल्य रचनाओं को हम तक पहुँचाने के लिए जेन्नी जी को मैं धन्यवाद करता हूँ। और अंत में एक आशा भी है इन्ही के शब्दों में - 
''अब तो यम से ही मानूँगी / विद्रोह का बिगुल / बज उठा है।''

हमारी दुआ है, आप किसी से न हारें, यम से भी नहीं और आपके श्राप का आशीर्वाद हम आपकी रचनाओं को देते हैं। जो इन्हे पढ़े उनको इनकी संवेदनाओं से इश्क़ हो!

अनिल पाराशर 'मासूम'
19. 1. 2020 
(आई. पी. एक्सटेंशन, दिल्ली) 

******************************************************

Monday, September 14, 2020

79. मेरी हिन्दी, प्यारी हिन्दी

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने कहा था ''अखिल भारत के परस्पर व्यवहार के लिए ऐसी भाषा की आवश्यकता है जिसे जनता का अधिकतम भाग पहले से ही जानता-समझता है, हिन्दी इस दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ है'' ''हृदय की कोई भाषा नहीं है, हृदय-हृदय से बातचीत करता है और हिन्दी हृदय की भाषा है''   


भारत की आज़ादी और गाँधी जी के इंतकाल के कई दशक बीत गए लेकिन आज भी हिन्दी को न सम्मान मिल सका न बापू की बात को कोई महत्व दिया गया हिन्दी, हिन्दी भाषियों और देश पर जैसे एक मेहरबानी की गई और हिन्दी को महज़ राजभाषा बना दिया गया बापू ने कहा था ''राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूँगा है'' सचमुच हमारा राष्ट्र गूँगा हो गया है, कहीं से ऐसी ज़ोर की आवाज़ नहीं आती कि हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाई जाए दुनिया के सभी देशों की अपनी-अपनी राष्ट्रभाषा है, लेकिन भारत ही ऐसा देश है जिसके पास अनेकों भाषाएँ हैं लेकिन राष्ट्रभाषा नहीं है जबकि भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा हिन्दी है।   

काफी साल पहले की बात है, मैं अपनी पाँच वर्षीया बेटी के साथ ट्रेन से अपने घर भागलपुर जा रही थी ट्रेन में एक युवा दंपति अपने तीन-साढ़े तीन साल के बेटे के साथ सामने की बर्थ पर बैठे थे, जिनका पहनावा  काफी आधुनिक था वे अपने घर पटना जा रहे थे बच्चा खूब खेल रहा था मेरी बेटी के साथ दोनों बच्चे बिस्किट खाना चाहते थे मेरी बेटी ने मुझसे कहा ''माँ हाथ धुला दो, बिस्किट खाएँगे'' मैंने कहा ''ठीक है चप्पल पहन लो, चलो'' सामने वाली स्त्री बेटे से बोली ''फर्स्ट वाश योर हैंड्स, देन आई विल गिव यू बिस्किट्स।'' वह बच्चा अपना दोनों हाथ दिखा कर बोला ''मम्मा, माई हैंड्स नो डर्टी।'' उस स्त्री ने अपने पति से अंग्रेजी में कहा कि वो बेटे का हाथ धुला दे। दोनों बच्चे बिस्किट खा रहे थे। हाथ का बिस्किट ख़त्म होने पर उस बच्चे ने अपनी माँ से और भी बिस्किट माँगा, कहा कि ''मम्मा गिव बिस्किट'' माँ ने अंग्रेजी में बच्चे से कहा कि पहले प्रॉपर्ली बोलो ''गिव मी सम मोर बिस्किट्स'' बच्चा किसी तरह बोल पाया फिर उसे बिस्किट मिला मैं यह सब देख रही थी मुझे बड़ा अजीब लगा कि इतने छोटे बच्चे को प्रॉपर्ली अंग्रेजी बोलने के लिए अभी से ही दबाव दिया जा रहा है। मैंने कहा कि अभी यह इतना छोटा है, कैसे इतनी जल्दी सही-सही बोल पाएगा? उस स्त्री ने कहा कि अभी से अगर नहीं बोलेगा तो दिल्ली के प्रतिष्ठित स्कूल में एडमिशन के लिए इंटरव्यू में कैसे बोलेगा, इसलिए वे लोग हर वक़्त अंग्रेजी में ही बात करते हैं। बातचीत से जब उन्हें पता चला कि मैं दिल्ली में रहती हूँ और मैंने पी एच. डी. किया हुआ है, तो उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ कि मैं अपनी बेटी से हिन्दी में बात करती हूँ और बेटी भी अच्छी हिन्दी बोलती है। मैं सोचने लगी कि क्या दोष उस माता-पिता का है जो बच्चे के एडमिशन के लिए अभी से बच्चे पर अंग्रेजी बोलने का दबाव डाल रहे हैं, या दोष हमारी शिक्षा व्यवस्था का है; जिस कारण अभिभावक प्रतिष्ठित अंग्रेजी माध्यम के स्कूल में पढ़ाने के लिए बच्चे के जन्म के समय से ही मानसिक तनाव झेलते हैं। 

निःसंदेह हमारे देश का ताना-बाना और सामजिक व्यवस्था का स्वरूप ऐसा बन चुका है जिससे अंग्रेजी के बिना तो काम ही नहीं चल पाता है। अगर जीवन में सफलता यानि उच्च पद और प्रतिष्ठा चाहिए तो अंग्रजियत ज़रूरी है। हिन्दी के पैरोकार कहते हैं कि हिन्दी बोलने से ऐसा नहीं है कि आदमी सफल नहीं हो सकता। मैं भी ऐसा मानती हूँ। लेकिन विगत 30-35 सालों में जिस तरह से सामाजिक सांस्कृतिक बदलाव हुए हैं, हिन्दी माध्यम से कोई सफलता प्राप्त कर भी ले लेकिन समाज में उसे वह सम्मान नहीं मिलता है जो अंग्रेजी बोलने वाले को मिलता है। यूँ अपवाद है और हर जगह है। अब तो गाँव-देहात-कस्बों में भी अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खुलते जा रहे हैं, क्योंकि सफलता का मापदंड अंग्रेजी भाषा बोलना हो गया है। आम जीवन में अकसर मैंने भी यह महसूस किया है। किसी दूकान, रेस्त्रां, सिनेमा हॉल, मॉल, कोई समारोह इत्यादि जगह में ''एक्ज़क्यूज़ मी'' बोल दो तो सामने वाला पूरे सम्मान के साथ आपकी बात पहले सुनेगा और ध्यान देगा। हिन्दी में भईया-भईया कहते रह जाएँ, वे उसके बाद ही आपकी बात सुनेंगे। अमूमन हिन्दी बोलने वाला अगर सामान्य कपड़ों में है तब तो उसे जाहिल या गँवार समझ लिया जाता है।   

शिक्षा पद्धति ऐसी है कि बच्चे हिन्दी बोल तो लेते हैं परन्तु समझते अंग्रेजी में हैं। हिन्दी में अगर कोई स्क्रिप्ट लिखना हो तो रोमन लिपि में लिखते हैं। पर इसमें दोष उनका नहीं है; दोष शिक्षा पद्धति का है क्योंकि हिन्दी की उपेक्षा होती रही है। सभी विषयों की पढ़ाई अंग्रेजी में होती है, तो स्वाभाविक है कि बच्चे अंग्रेजी पढना, लिखना और बोलना सीखेंगे। हिन्दी एक विषय है जिसे किसी तरह पास कर लेना है, क्योंकि आगे काम तो उसे आना नहीं है चाहे आगे की पढ़ाई हो या नौकरी या सामान्य जीवन।   

1986 नई शिक्षा नीति लागू की गई थी, जिसमें 1992 में कुछ संशोधन किये गए थे। अब दशकों बाद 2020 में नई शिक्षा नीति लागू की गई है, जिसमें मातृभाषा पर जोर दिया गया है। इसमें पाँचवीं कक्षा तक मातृभाषा, स्थानीय या क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाई का माध्यम रखनी की बात की गई है। साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी भी भाषा को थोपा नहीं जाएगा। अब इस नीति से हिन्दी को कितना बढ़ावा मिलेगा, यह कहना कठिन है। हिन्दी प्रदेशों के सरकारी विद्यालयों में हिन्दी माध्यम से पढ़ाई होती है। लेकिन पूरे देश के सभी निजी विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम से ही पढ़ाई होती है। इस नई शिक्षा नीति के तहत गैर हिन्दी प्रदेश और निजी विद्यालय किस तरह हिन्दी को अपनाते हैं यह समय के साथ पता चलेगा।   

अंग्रेजी की ज़ंजीरों  में जकड़े हुए हम भारतीयों को न जाने कब और कैसे इससे आज़ादी मिलेगी। बहुत अफ़सोस होता है जब अपने ही देश में हिन्दी और हिन्दी-भाषियों का अपमान होते देखती हूँ। आख़िर हिन्दी को उचित सम्मान व स्थान कब मिलेगा? कब हिन्दी हमारे देश की राष्ट्रभाषा बनेगी? क्या हम यूँ ही हर साल एक पखवारा हिन्दी दिवस के नाम कर अंग्रेजी का गीत गाते रहेंगे? जिस तरह हमारे देश में अंग्रेजों ने हमपर अंग्रेजी थोप दिया, और पूरा देश अंग्रेजी का गुणगान करने लगा। क्या उसी तरह हमारी सरकार नीतिगत रूप से हिन्दी को पूरे देश के लिए अनिवार्य नहीं कर सकती? लोग अपनी-अपनी मातृभाषा बोले; साथ ही हमारी राष्ट्रभाषा को जाने, सीखें, समझें और बोलें।  

हिन्दी दिवस की शुभकामनाएँ!

- जेन्नी शबनम (14. 9. 2020)
__________________________________________________ 

Wednesday, July 1, 2020

78. रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' जी द्वारा 'लम्हों का सफ़र' की समीक्षा


मेरी पुस्तक 'लम्हों का सफ़र' जो मेरा प्रथम एकल कविता-संग्रह है, का लोकार्पण 7. 1. 2020 को विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली में संपन्न हुआ। आदरणीय रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' जी, केन्द्रीय विद्यालय से अवकाशप्राप्त प्राचार्य और साहित्यकार हैं, पुस्तक के लोकार्पण में शामिल न हो सके, इसका मुझे अफ़सोस है; परन्तु उनकी शुभकामनाएँ सदैव मेरे साथ हैं। मेरी पुस्तक में उन्होंने अपनी बात और इसकी समीक्षा बहुत सुन्दर की है। उनके द्वारा की गई समीक्षा प्रस्तुत है    
अभिभूत करने वाली कविताएँ

जीवन एक यज्ञ हैजिसमें न जाने कितने भावों की आहुति दी जाती है। मन के अभावों को दूर करने के लिए न जाने कितने प्रयासों की समिधा जीवन के यज्ञ-कुण्ड में होम की जाती है। जीवन-ज्योति को उद्भासित करने के लिए हृदय का कोमल और अनुभूतिपरक होना बहुत टीस पहुँचाता है। पता नहीं कब कौन-सी बात फाँस बनकर चुभ जाए और करकने लगे। पुनीत प्रेम से भरा मानव छलकता हृदय लिये दूसरों से वैसा ही प्रेम पाने की लालसा में पूरा जीवन होम कर देता है। बदले में मिलता है - अपमानसन्तापपश्चात्ताप का म घोटने वाला धूम। डॉ. जेन्नी शबनम की कविताओं में जीवन की जद्दोजहद के साथ सन्तप्त मन लिये आगे बढ़ने का संघर्ष हैदो पल की गहन विश्रान्ति की तलाश है। मन के बीहड़ वन में इतना कुछ भरा हुआ है कि उससे निकलकर आगे कदम बढ़ाना दुसाध्य ही है।
इनके काव्य की गहराई ने मुझे सदा अभिभूत किया है। सच तो यह है कि इनकी प्रभावशाली एवं व्यापक अर्थगर्भी कविताओं के कारण ही इनसे जुड़ा। इनका गद्य जितना सधा हुआ हैकाव्य  भी उतना ही मन की गहराइयों में उतरने वाला है। परिवेश और विषम परिस्थितियों के संघर्ष ने इनको खूब तपाया है। भागलपुर में शिक्षाविश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर पिता का कम उम्र में संसार से चले जानाभागलपूर के दंगों का साक्षी होनाव्यथित मन को लिये शान्तिनिकेतन में कुछ समय के लिए रहना और विवाहोपरान्त दिल्ली में निवासप्रसिद्ध कवयित्री अमृता प्रीतम से आत्मीयताइमरोज़ जी का प्रोत्साहन। सभी कुछ जीवन में जुड़ते चले गए। जीवन की कठोरताएँ और उससे उत्पन्न भावों का आकाशीय विस्तार इनकी कविताओं की भावभूमि बना। कुछ कविताओं का अवगाहन किया जाएतो रचनाकर्म की परिपक्वता सामने आती है।
लम्हों का सफ़र इन सात लम्हों में विभाजित है - 1. जा तुझे इश्क हो , 2. अपनी कहूँ, 3. रिश्तों का कैनवास , 4.आधा आसमान5. साझे सरोकार, 6. ज़िन्दगी से कहा सुनी  और  7. चिन्तन।
जा तुझे इश्क हो इश्क की यह दुआ देना या सांसारिक परिप्रेक्ष्य में शाप देना ही है। इस कविता की अभिशप्त स्थिति की यह अनुभूति देखिए -
ग़ैरों के दर्द को महसूस करना और बात है / दर्द को ख़ुद जीना और बात,/ एक बार तुम भी जी लोमेरी ज़िन्दगी जी चाहता है / तुम्हे शाप दे ही दूँ -''जा तुझे इश्क हो!''
तुम शामिल हो कविता में प्रेम की अनेकानेक छवियाँ उभरती  हैं। कभी बयार, कभी ठंड की गुनगुनी धूप बनकर, कभी फूलों की ख़ुशबू, कभी जलकभी अग्निकभी साँसकभी आकाशकभी धराकभी सपना तो कभी भय बनकर अनेक रूपों में प्रेम की अनुभूतियों की एक-एक गाँठ खुलती है। कविता वेगवती उद्दाम नदी की तरह आगे बढ़ती जाती है। जीवन और भावों के कई-कई मोड़ पार करती हुईयथार्थ की चट्टानों से टकराती हुई। कुछ पंक्तियाँ -
कभी फूलों की ख़ुशबू बनकर जो उस राततुम्हारे आलिंगन से मुझमें समा गई और रहेगीउम्र भर!
तुम शामिल हो मेरे सफ़र के हर लम्हों में मेरे हमसफ़र बनकर कभी मुझमें मैं बनकर /कभी मेरी कविता बनकर!
तय था कविता की मार्मिकता हृदय के एक-एक कोश को पार करते हुए प्राणों में उतरती जाती है। प्रेम की व्याख्या का दर्शन अव्यक्त और अनिर्णीत रह जाता हैक्योंकि सब कुछ तय होने पर भी ऐसा कुछ न कुछ रह जाता हैजिसका हमारे पास कोई विकल्प नहीं होता। प्रेम में वैसे भी कोई विकल्प नहीं होता। जो कुछ हैसब अवश कर देने वाला -
तय यह भी तो थाबिछड़ गए ग़र तोएक दूजे की यादों को सहेजकरअर्ध्य देंगे हम!
और वह स्थिति  कभी सोची ही नहीं थी कि बिखरने के बाद (जिसकी सम्भावना सदा बनी रहती है) क्या करना होगा -
बस यह तय न कर पाए थेकि तय किये सभीसपने बिखर जाएँ /फिरक्या करेंगे हम?
           अपनी कहूँ की कविताओं में स्वत्व की तलाश है। इस खण्ड में एक ऐसी ही कविता है - ‘मैं भी इंसान हूँ’ इस कविता का सम्प्रेष्य यही है कि आदमी न जाने कितने चेहरे लगाकर जीवन व्यतीत करता हैफिर भी दर्द तो जीवन का शाश्वत सत्य हैजो सभी को व्यथित करता है -
दर्द में आँसू निकलते हैंकाटो तो रक्त बहता हैठोकर लगे तो पीड़ा होती हैदगा मिले तो दिल तड़पता है।
वहीं कवयित्री अतीत में लौटती है जाने कहाँ गई वो लड़की को खोजने के लिए। अतीत की किताब पन्ना-दर पन्ना खुलती जाती है। खोज में बीते पलों को फिर से जीने की ललक मार्मिकता से अभिव्यक्त कर दी है -
उछलती-कूदतीजाने कहाँ गई वो लड़की वह शहर क्या गई गाँव की सारी खुशबू भी लेती गई। जीवन की कठोरता इस पंक्ति में उतार दी गई -
- जाने कहाँ गईवो मानिनी मतवालीशायद शहर के पत्थरों में चुन दी गई
कवयित्री ने जीवन के महत्त्वपूर्ण पड़ाव पर पिताजी को खोया हैजिससे पूरा परिवार अस्त-व्यस्त हुआ। इसकी अनुगूँज - ‘बाबा आओ देखो! तुम्हारी बिटिया रोती है में हूक की तरह सुनाई पड़ती है -
बूँद आँसू न बहेतुमने इतने जतन से पाले थे
जाना ही थातो साथ अपनेमुझे और अम्मा को भी ले जातेमेरे आधे आँसूअम्मा की आँखों से भी बहते हैं,
जानती हूँआसमान सेन कोई परी आएगी न तुम आओगेफिर भीमन में अब भीएक नन्ही बच्ची पलती है।
इन पंक्तियों में पीड़ा गलकर बह उठती है -
सपनों में तुम आते होजैसे कभी कहीं तुम गए नहीं
बाबा! जब भी आँसू बहते हैंमन छोटी बच्ची बन जाता है
आधा आसमान’ खण्ड के अन्तर्गत ‘मैं स्त्री हूँ’ कविता आज में घने असुरक्षा के वातावरण की कड़वाहट को  बहुत गहनता और पीड़ा के साथ उजागर करती है। लगता है औरत का जन्म इस धरती पर दुःख झेलने लिए ही हुआ है। वह दु:ख अनेक रूपों में एक टीस छोड़ जाता है कि सामाजिक पतन की कोई सीमा नहीं है। सड़े-गले कृत्य समाज को भी बदबूदार बनाने में पीछे नहीं -
मैं स्त्री हूँजब चाहे भोगी जा सकती हूँमेरा शिकारहर वो पुरुष करता है/
जो मेरा सगा भी हो सकता हैऔर पराया भी / जिसे मेरी उम्र से कोई सरोकार नहीं /
चाहे मैंने अभी-अभी जन्म लिया हो या संसार से विदा होने की उम्र हो क्योंकि पौरुष की परिभाषा बदल चुकी है।  
 ‘ भागलपुर दंगा (24. 10. 1989)' की पीड़ा भूलते नहीं बनती । आहत और हृदय को तार-तार करने वाली क्रूरता की इस इबारत को डॉ. जेन्नी शबनम जी ने काग़ज़ पर उतारते समय बहुत से सवाल भी छोड़ दिए हैं जो आज भी अनुत्तरित हैं -
बेटा-भैया-चाचा सारे रिश्तेजो बनते पीढ़ियों से पड़ोसीअपनों से कैसा डरथे बेखौफ़और कत्ल हो गई ज़िन्दगी।
तीन दिन तीन युग-सा बीतापर न आयामसीहा कोईऔरत बच्चे जवान बूढ़ेचढ़ गए सबधर्म के आगे बली।
यद्यपि डॉ. जेन्नी शबनम की अधिक संख्य कविताएँ आत्मपरक हैंलेकिन सामाजिक सरोकार की उपेक्षा नहीं की गई है। जीवन की जटिलताओं और मन की तरंगों को आपने चित्रित किया है। कवयित्री की भाषा सधी हुई और प्रवाहमयी है। हर पंक्ति में एक-एक लम्हे की संवेदना की द्रवित करने वाली लय अंकुरित होती है। मैं आशा करता हूँ कि जेन्नी जी का यह काव्य-संग्रह सहृदय पाठकों के बीच अपना अपनत्व-भरा स्थान बनाएगा।
                                                                          
रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’  5 दिसम्बर, 2019 (ब्रम्प्टन, कनाडा)

**************************************************

Sunday, June 14, 2020

77. सुशांत अब सदा के लिए शांत हो गया है

जीवन के यथार्थ से जुड़ा एक भावपूर्ण गाना है - ''आईने के सौ टुकड़े करके हमने देखे हैं, एक में भी तन्हा थे सौ में भी अकेले हैं'' इस गाना के बोल आज बार-बार दोहरा रही हूँ सचमुच हम कितने अकेले होते हैं, हज़ारों की भीड़ में भी अकेले होते हैं और यह सिर्फ हमारा मन जानता है कि हम कितने अकेले हैं कोई नहीं जानता कि किसी चेहरे की मुस्कराहट के पीछे कितनी वेदना छुपी हुई होती है कोई ऐसा दर्द होता है जिसे वह दबाए होता है, क्योंकि वह किसी से कह नहीं पाता जब सहन की सीमा ख़त्म हो जाती है फिर वह सदा के लिए ख़ामोश हो जाता है निःसंदेह किसी की मुस्कराहट से उसकी सफलता और सुख का आकलन नहीं कर सकते और न ही भौतिक सुविधा से किसी को सुखी कह सकते हैं।  

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की खबर मन को बहुत बेचैन कर रही है कई सवाल हैं जो मन को परेशान कर रहे हैं एक सफल इंसान जिसे भौतिक सुख सुविधाओं की कोई कमी नहीं, आख़िर मन से इतना अकेला क्यों हुआ, जो उसे जीवन को ख़त्म करना जीने से ज्यादा सहज मालूम हुआ। नाम, शोहरत, पैसा और सम्मान के होते हुए ऐसी कौन सी चीज़ की कमी थी उसे? पर कुछ तो ज़रूर है जिसे कोई दूसरा न समझ सकता है न जान सकता है कितना कठिन रहा होगा वह वक़्त, जब उसने फाँसी के फंदे को गले में डाला होगा मन से कितना टूटा रहा होगा वह मृत्यु से पूर्व निश्चित ही वह चाहता होगा कि कोई हो जिसे वह कुछ कह सके लेकिन चारों तरफ इतना अपना कोई न दिखा होगा जो उसके मन तक पहुँच सके, उसे समझ सके, उसकी मदद कर सके कोई उसके इतने करीब होता तो यूँ न जाता सुशांत।  

युवा सुशांत एक बहुत उम्दा कलाकार था बिहार का सुशांत बॉलीवुड में एक मुकाम हासिल कर चुका था। उसने काई पो चे, शुद्ध देसी रोमांस, एम एस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी, पी के, केदारनाथ, छिछोरे आदि कई हिट फिल्में की हैं पिछले साल छिछोरे आई थी जो एक भावनात्मक और सभी उम्र के लोगों के लिए प्रेरक फिल्म थी कई सारे धारावाहिकों में वह काम कर चुका है उसे बॉलीवुड में बहुत प्यार मिला  कई सारे पुरस्कार और अवार्ड मिले निजी जीवन का तो नहीं पता लेकिन फ़िल्मी जीवन में एक सफल अभिनेता था सुशांत।  

अक्सर सोचती हूँ कि ज़िन्दगी का कौन-सा पल कब किस मोड़ पर मुड़ जाए, किस दिशा में ले जाए, किस दशा में पहुँचा दे, कोई नहीं जानता ज़िन्दगी को जितना ही समझने का, जानने का, पकड़ने का प्रयत्न करो उतना ही समझ से और पकड़ से दूर चली जाती है साहस चाहिए होता है ज़िन्दगी के साथ ताल-मेल बिठाकर साथ चलने का कितना ही कठिन वक़्त हो अगर एक भी कोई अपना हो तो हर बाधाओं को पार करने की हिम्मत इंसान जुटा लेता है परन्तु जाने क्यों अब इतना अपना कोई नहीं होता संवेदनाएँ धीरे-धीरे सिमटते-सिमटते मरती जा रही हैं हमारे जीवन से अपनापन ख़त्म हो रहा है हमारे रिश्तों में महज़ औपचारिक-से सम्बन्ध रह गए हैं, जहाँ कोई किसी का हाल पूछ भी ले तो यूँ मानो एहसान किया हो अब ऐसे में अकेला पड़ गया आदमी क्या करे? शायद इसी लिए कहते हैं कि ज़िन्दगी से ज्यादा आराम मौत में है जीवन के बाद का सफ़र कौन जाने कैसा होता होगा लेकिन जैसा भी होता हो, जीवन की समस्याएँ जब अख्तियार से बाहर हो जाती होंगी, तभी कोई इस सुन्दर संसार को अलविदा कहता होगा।  

वर्तमान समय में संवादहीनता और संवेदनहीनता एक बहुत बड़ा कारण है जिससे आदमी अकेला महसूस करता है। अपने अकेलेपन से पार जाने के लिए हमें ही सोचना होगा रिश्ते नाते या दोस्तों में किसी को तो अपना बनना होगा, किसी को तो अपना बनाना होगा जहाँ हम खुल कर संवाद स्थापित कर सकें अपनी तकलीफ़ बताएँ और तकलीफ़ से उबरने का उपाय कर सकें कोई क्या सोचेगा, यह सोचकर हम बड़े से बड़े संकट या परेशानी में ख़ामोश ही नहीं रह जाते बल्कि अपनी दशा और मनोस्थिति सबसे छुपाते रहते हैं कई बार यही चुप्पी काल बन जाती है संकोच की परिधि से बाहर आकर खुल कर ख़ुद को बताना और जीवन को चुनना होगा। हम जैसे अपनों की परवाह करते हैं वैसे ही हमें अपनी परवाह भी करनी होगी वरना अहंकार, असंवेदनशीलता और भौतिकता के इस दौर में हर कोई अकेले पड़ता जाएगा और न जाने कितने लोग जीवन से इसी तरह पलायन करते रहेंगे।  

बिहार का सुशांत अब सदा के लिए शांत हो गया है। शांति के लिए तुमने जिस पथ को चुना, भले वहाँ पूर्ण शान्ति हो; फिर भी वह उचित नहीं था सुशांत। चाहती हूँ कि तुम जहाँ भी अब हो खुश रहना। अलविदा सुशांत।  

- जेन्नी शबनम (14. 6. 2020) 
_______________________________________________________