Thursday, January 30, 2014

46. 'जय हो' की जय हो !


सलमान खान के फिल्मों की एक ख़ास विशेषता है कि इसे हर आम व ख़ास आदमी अपने परिवार के साथ देख सकता है। सलमान द्वारा अभिनीत हर फिल्म से हमें उम्मीद होती है - धाँसू डायलॉग, हँसते गुदगुदाते हुए डायलॉग, जोरदार एंट्री, जबरदस्त फाइट, नायिका के साथ स्वस्थ प्रेम दृश्य, डांस में कुछ ख़ास नया स्टेप्स, गीत के बोल और धुन ऐसे जो आम आदमी की जबान पर चढ़ जाए। सोहेल खान ने अपनी फिल्म 'जय हो' में लगभग इन सभी बातों का ध्यान रखा है।

'जय हो' का नायक जय एक ईमानदार, संजीदा और भावुक इंसान है। उसका सामना सामाजिक व्यवस्था के ऐसे क्रूर और संवेदनहीन स्वरूप से बार-बार होता है जिससे आम आदमी त्रस्त है। उसकी सेना की नौकरी सिर्फ इस लिए चली जाती है; क्योंकि आतंकवादियों द्वारा बंधक बनाए गए बच्चों को छुड़ाने के लिए वह अपने उच्च अधिकारियों के आदेश की अवहेलना करता है। नौकरी छूट जाने के बाद वह मोटर गैराज में काम करता है। आस पास हो रहे घटना क्रम के कारण उसे समाज, गुंडा, आतंकवादी, नेता, मंत्री, भ्रष्ट सरकारी तंत्र आदि से उलझना पड़ता है और बार-बार मार-पीट करनी होती है। उसका परिवार और उसके मित्र सदैव उसका साथ देते हैं। जय के अपने कुछ नैतिक सिद्धांत और विचार हैं, जिन्हें वह अमल में लाता है और सभी को इस विचार को बढ़ाने के लिए प्रेरित भी करता है। अंत में पापियों का नाश होता है और सत्य की जीत होती है।

जय का विचार है कि किसी एहसान के बदले में 'थैंक यू' न बोल कर तीन आदमी की मदद करो, और उन तीनों से आग्रह करो कि उस मदद के बदले वे भी अन्य तीन की मदद करें, और फिर वे तीन अन्य तीन की।  इस तरह इंसानियत का यह सिलसिला एक शृंखला बनकर पूरी दुनिया को बदल देगा। यह एक बहुत बड़ा विचार और सन्देश है जो 'जय हो' फिल्म का सबसे सकारात्मक पक्ष है।

सच है 'थैंक यू' शब्द जितना छोटा है उसका एहसास भी उतना ही छोटा लगता है। किसी एहसान के बदले में 'थैंक यू' शब्द बोल कर या सुन कर ऐसा महसूस होता है जैसे एहसान का बदला चुकता कर दिया गया। मानो 'थैंक यू' शब्द एहसान की कीमत हो। कई बार यूँ लगता है कि 'थैंक यू' कहना मन की भावना नहीं है, बल्कि औपचारिक-सा एक शब्द है जिसे बोल कर एहसानों से मुक्ति पाई जा सकती है। सचमुच, जय के इस विचार को सभी अपना लें तो एहसानों से वास्तविक मुक्ति मिल सकती है और समाज में इंसानियत और संवेदनशीलता का प्रसार हो सकता है।

इस फिल्म में सलमान खान न सिर्फ बलिष्ठ और ताकतवर इंसान है; बल्कि बेहद भावुक और संवेदनशील इंसान भी है। उसके लिए अपना पराया जैसी कोई बात नहीं। सब लोगों की मदद के लिए वह तत्पर रहता है। दूसरों की मदद करने पर 'थैंक यू' के बदले तीन इंसान की मदद का वादा लेना, और जब उन तीनों द्वारा किसी की भी मदद के लिए आगे न आने पर जय जिस पीड़ा से गुजरता है, सलमान खान ने बहुत अच्छी तरह से अभिव्यक्त किया है। सलमान की संवेदनशीलता उनकी आँखों में दिखती है। सलमान की भावप्रवण आँखें और निश्छल हँसी किसी का भी दिल जीतने के लिए काफी है। चेहरे पर जो मासूमियत है, निःसंदेह सलमान के वास्तविक चरित्र का द्योतक है।
फिल्म का हर दृश्य और पटकथा जैसे सलमान को सोच कर ही लिखी गई हो। फाइट सीन में कहीं से भी नहीं लगता कि यह बेवजह हो; कथा-क्रम का ही हिस्सा लगता है। हाँ, इतना ज़रूर है कि मार-पीट और खून-खराबे के दृश्य बहुत ज्यादा है। एक अकेला इंसान कितना भी हौसले वाला हो या बलशाली हो, बार-बार इतने लोगों से अकेला मार कर जीत नहीं सकता। मार-पीट के लिए गुंडों की फ़ौज पर फ़ौज आती है और अकेला जय सब पर भारी पड़ता है। बस यहीं पर चूक हो गई है फिल्म निर्देशक से। खून-खराबा के अतिरेक को नज़रंदाज़ कर दें तो 'जय हो' एक अच्छी फिल्म है।

सलमान के साथ डेजी शाह की जोड़ी ख़ास नहीं जमी है। शायद अब तक सलमान की सभी नायिकाएँ बेहद खूबसूरत रही हैं, इस लिहाज़ से साधारण चेहरे वाली डेजी शाह कुछ ही दृश्यों में ठीक लगी है। सलमान खान की विशेषता है कि नए चेहरों को काम और पहचान दोनों देते हैं, शायद इसी लिए डेजी शाह को लिया हो। टी वी के अलावा कई अन्य फ़िल्मी कलाकार जिनकी पहचान ख़त्म हो रही थी, को इस फिल्म में बहुत अच्छा मौका मिला है। जितने भी पात्र इसमें शामिल किए गए हैं, सभी कथा-क्रम का हिस्सा लगते हैं, किसी की उपस्थिति जबरन नहीं लगती।

सलमान के फिल्मों की एक ख़ासियत यह भी है कि उसके कुछ गीत इतने मधुर और मनमोहक होते हैं कि सहज ही सबकी जुबान पर चढ़ जाते हैं। डांस के कुछ स्टेप्स भी ऐसे होते हैं जो आम लोगों को बहुत अच्छे लगते हैं। सलमान के फिल्मों में नैना वाले गीत खूब सराहे जाते हैं, जैसे - तेरे नैना मेरे नैनो की क्यों भाषा बोले, तेरे मस्त मस्त दो नैन, तेरे नैना दगाबाज़ रे। इस फिल्म में अब एक और नैना गीत - तेरे नैया बड़े कातिल, मार ही डालेंगे...! नैना वाले सभी गीतों के साथ सलमान का स्टेप्स... सच बड़े कातिल होते हैं!

यह फिल्म सिर्फ मनोरंजन या सलमान को देखने के लिए, सलमान की दबंग वाली छवि देखने के लिए या फिर सलमान के धाँसू डायलॉग के लिए ही नहीं बल्कि सलमान की भावुकता, गंभीरता और संवेदनशीलता को देखने के लिए भी देखा जाना आवश्यक है। साथ ही तीन इंसान की मदद करने के सन्देश को आत्मसात करने और उसे जीवन में उतारने के लिए भी यह फिल्म देखनी चाहिए। मुमकिन है इस फिल्म को देख कर कुछ लोग ही सही कम से कम किसी एक की मदद तो ज़रूर करेंगे, और वे कुछ अन्य की।

धाँसू डायलॉग - ''आम आदमी सोता हुआ शेर है, ऊँगली मत कर, जाग गया तो, चीर फाड़ देगा'' गुंडों से भिड़ते हुए जब जय के पास और कोई उपाय नहीं बचता तब चिंघाड़ते हुए वह अपने दाँतों का इस्तेमाल करता है। अहा! क्या चीर फाड़... बस कमाल है! जय हो!

एक संदेशप्रद स्वस्थ मनोरंजक जोशीले फिल्म के लिए सोहेल, सलमान के साथ ही 'जय हो' की पूरी टीम बधाई के पात्र हैं। 

-  जेन्नी शबनम (30. 1. 2014)
_____________________________________________  

6 comments:

सहज साहित्य said...

जय हो फ़िल्म पर भी आपने ऐसा लिख दिया कि साधारण और विशिष्ट हर पाठक आत्मीयता स्थापित कर लेता है । काव्य के साथ-साथ जेन्नी बहन का गद्य भी बहुत सजीव और रोचक है। हार्दिक बधाई

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (31-01-2014) को "कैसे नवअंकुर उपजाऊँ..?" (चर्चा मंच-1508) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

ashok andrey said...

पूरी फ़िल्म जय हो पर बहुत ही सार्थक समीक्षा प्रस्तुत की है जिससे हर दर्शक को इस फ़िल्म को समझने में आसानी हो जाती है,बधाई.

PRAN SHARMA said...

FILM ` JAI HO ` PAR AAPKEE SMEEKSHA VAKAEE SRAHNEEY HAI .
AAP SAFAL KAVYITRI TO HAIN HEE
AAPKA IS VIDHAA MEIN BHEE SAFAL
SAABIT HUEE HAIN . BADHAAEE AUR
SHUBH KAMNA .

SUMIT PRATAP SINGH said...

जय हो!

सीमा स्‍मृति said...

जेन्‍नी जी यह लेख पढ़ कर मजा आ गया। मै अभी यह फिल्‍म देख नहीं पाई थी पर मेरे लिए तो पूरी फिल्‍म सजीव हो गई। मैं आप की बात से सहमत हूँ कि फिल्‍म का और किदार का क्‍या प्रभाव पड़ा उसका उदाहरण अब मुझ से सुनिये तो आप के लेख और फिल्‍म कि सार्थकता पर आप भी हैरान हो जाएंगी। अभी थोड़ी देर पहले मैं बाजार गई थी अपने साइड अटैचेमेंट वाले टू व्‍हीलर पर क्‍योंकि दोंनो पांव में पोलियो के कारण वो बहुत बड़ा सहारा है। यह स्‍कूटर साइड अटैचमेंट के कारण थोड़ा ज्‍यादा भारी सा हो जाता है। मैं बाजार में इस मोड़ नहीं पा रही थी।तभी पास खड़े एक लड़के को मैंने कहा, ‘बेटा जरा स्‍कूटर को सीधा कर दो। उसने बिना एक पल गवाये स्‍कूटर सीधा कर दिया। मैंने उसे थैक्‍यू कहा। वो बोला, नहीं मैडम दिन में तीन लोगों की हैल्‍प करनी चाहिए। मैंने कहा, क्‍या मैं हैरानी से देख रही थी कि क्‍या कह रहा है । कुछ समझ नहीं आया और घर आ गई । अब आप का लेख पढ़ा तो सब स्‍पष्‍ट हो गया। देखा आपके लेख और फिल्‍म का कमाल।