Thursday 26 August 2010

11. आज की ताज़ा ख़बर...




रोज़ की तरह आज भी बहुत हीं अनमने मन से अखबार पढ़ने बैठी| एक सरसरी नज़र से सब देख गई नया कुछ तो होता नहीं|

हर दिन अखबार में एक सी ख़बर...अमुक जगह ये घटना तो वहाँ ये दुर्घटना, किसी की हत्या हुई तो किसी ने आत्महत्या की, कहीं शहर बंद के दौरान कितनी संपत्ति नष्ट की गई तो विरोध में कितनी जानें गयी और जानें ली गई, कहीं छात्र नें ख़ुदकुशी की तो कहीं छात्र के पास हथियार बरामद, प्रेम विवाह करने पर नव विवाहित की हत्या तो कहीं विवाह न कर पाने की वजह से पिता ने की आत्महत्या, भूख़ से मृत्यु तो कहीं शराब के सेवन से मृत्यु, अवैध संबंधों से आहत पति ने पत्नी का खून किया तो कहीं पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति का क़त्ल किया, कहीं बलात्कार हुआ तो किसी ने दहेज़ केलिए अपनी पत्नी को जला कर मार दिया, लावारिश जन्मजात कन्या कचरे पर पाई गई तो कहीं पुत्र के लिए पुत्री की बलि चढ़ाई गई, सड़क दुर्घटना में मौत तो अस्पताल में असंवेदनशीलता से मौत, सरकार की असफलता की कहानी तो कभी किसी प्रांत के असफल सरकार की बयानबाजी, सत्ता का खेल तो विपक्षी पार्टियों का दोषारोपण, कहीं बारिश न होने से सूखे की आपदा तो कहीं बाढ़ से त्राहि, अज़ब ख़बर अज़ब तमाशा...अब क्या क्या गिनाएँ ?
रोज़ यही पढ़ पढ़ कर अखबार पढ़ने से मेरा मन उचट गया है| लेकिन आदत है कि बिना एक नज़र डाले रहा भी नहीं जाता, भले हीं रात के १२ बज जाएँ| घर में ४ अखबार आते हैं सबमें वही ख़बर, फिर भी आदत से पढ़ती हूँ मन से नहीं और रोज़ खिन्न मन से कहती कि आज से न पढूंगी और फिर दूसरे दिन...अखबार...


दूरदर्शन पर भी यही सब या फिर... बेमकसद बेतूका सीरियल जिसका आम जीवन से कोई मतलब नहीं| समाचार भी ऐसा की सुबह से शाम तक एक हीं खबर बार बार जिससे आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता| अपनी जनता को दिखाने केलिए संसद में सांसदों का चिल्लाना या फिर नाटकबाजी, किसी बड़े नेता या अभिनेता की शादी या बीमारी का जिक्र देश का सबसे बड़ा ख़बर बन जाता, कोई कोई कार्यक्रम ऐसा कि खौफ़ के बारे में बताने वाले ख़ुद हीं खौफनाक लगता, या फिर प्रतयोगिता वाला कार्यक्रम जिसमें एक को विजयी होना है और दूसरा पराजित| विद्यालय में अगर बच्चा अपने वर्ग में एक स्थान नीचे आ जाता है तो न सिर्फ बच्चा बल्कि उसके माता पिता भी सहन नहीं कर सकते| और यहाँ तो सार्वजनिक रूप से उसका पराजय दिखाया जाता जो एक साथ करोड़ों लोग देखते हैं| पराजित होने वाले की मनोदशा कैसी होती होगी उस समय... उफ्फ्फ| नहीं अच्छा लगता मुझे कि कोई हारे या कोई जीते, महज़ मनोरंजन हो तो कोई बात है| छोड़ दिया मैंने दूरदर्शन का दर्शन करना|


समस्याएं तो हम सभी गिना देते, लिख देते और दिखा देते, लेकिन इससे निज़ात पाने के लिए चिंतन और सुझाव किसी के पास नहीं होते| आख़िर देश और समाज में ऐसा क्यों हो रहा? हमारी असंतुष्टि और असहनशीलता की कुछ तो वज़ह है| सभी बदहाल हैं फिर भी किसी तरह निबाह रहे, हर परिस्थिति में मन मारकर जी रहे| शायद समझौतों में जीने की आदत पड़ चुकी है या फिर नयी उम्मीद की किरण अस्त हो चुकी है| ख़तरे और जोख़िम के लिए हम में से कोई राज़ी नहीं, बने बनाए नियम पर चलने में सुविधा होती है| समूह के साथ चलने कि आदत पड़ चुकी है हमें या फिर उस भीड़ के हिस्सा बनते जिसका मकसद नव निर्माण नहीं बल्कि सिर्फ विध्वंश है|


कभी कभी सुखद बदलाव की गुंजाइश दिख जाती है जब ताज़ा खबर में पाती हूँ कि
किसी दुर्गम स्थान पर कोई सार्थक कार्य हो रहा, ग्रामीण अंचल या फिर पिछड़े जगह तक भी पहुँच कर कोई उनके लिए कुछ सोच रहा है| रोज़ इसी उम्मीद के साथ ताज़ा खबर पढ़ती और सुनती हूँ कि शायद आज कोई सरोकार से जुड़ी खबर सुनने या पढ़ने को मिले, मगर ऐसा होता नहीं| लेकिन ये तय है कि मेरी अखबार पढ़ने की न आदत छूटेगी न ताज़ा खबर में कोई माकूल खबर हीं होना है|


__ जेन्नी शबनम __ २६. ०८. २०१०


*********************************************************************

10 comments:

rasaayan said...

Bilkul sahi kaha.....aaj ke akhbar aur patrikaayain, saath T.V. channels in sansankhej samacharon ko dekar apni jagah banane ki koshish main hain...
saarthak paDhne walon ki sankhya bhi kam ho rahi hai.....
aaj ke nav yuvak/yuvtiyan kin vishyon par charchaa kartae hain sochkar lagta hai sahitya, samaj aur sanskaar kis tarf rukh kar rahe hain.....Gambhirta ka abhav hai.......

अनामिका की सदायें ...... said...

आप की रचना 27 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका

Udan Tashtari said...

यही हाल है...बिल्कुल सही कहा. अच्छा आलेख.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आजकल के समाचार पत्रों के स्वामी और सम्वाददाता विद्वान कम और छँटे हुए ज्यादा हैं!

Mukesh Kumar Sinha said...

sahi kaha Jenny jee aapne..........!!
jab tak media News ko bhi TRP/no. of copeis ke liye bhagana nahi chhodega.........system aisa hi rahega........!!

ओशो रजनीश said...

सही कहा बंधू ..........
http://oshotheone.blogspot.com/

अजय कुमार झा said...

अच्छी पोस्ट ....प्रभावित किया आपने..।

pragya said...

हर किसी के सुबह की यही कहानी है...कोई तो खुश करने वाली घटना हो इस देश में..

ALOK KHARE said...

sahi kaha di, aajkal kahbre kam, vayavsaye jayda he, har chennal par wahi sab jo dusre channeal par hot ahe
bas remote ke buttons dabate raho, raha paper, me to bas HT daily hi leta hun, aur bahut hi ehsaan karte hue uske panne palat kar, 5-10 mint me khatm karta hun, kya karu, hota hi nhi kuch,,, magar man nhi manta na ....
acchi prastuti

shikha varshney said...

kya karen Jenny ji ! sach maine to TV dekhna band hi kar dia hai .