Sunday 11 December 2011

32. दिल्ली के 100 साल



दिल्ली के 100 साल...! नहीं नहीं दिल्ली तो तब से है जब से पृथ्वी है I जाने कितने युग- काल की साक्षी यहाँ की ज़मीन और आबो-हवा का अपना वज़ूद रहा है I भले हीं पहले यहाँ जंगल, पहाड़, खेत-खलिहान रहा हो या फिर कोई अनजान बेनाम बस्ती रही हो I नदी के किनारे ही आबादी बसती है, तो निःसंदेह यहाँ भी यमुना के किनारे आबादी रही होगी I कितनी संस्कृति बदली और नाम बदला I महाभारत काल का इन्द्रप्रस्थ धीरे- धीरे बदलते- बदलते अंत में देहली और फिर दिल्ली में परिणत हुआ I न जाने कितने बदलाव और बिखराव को देखा है दिल्ली ने I धीरे धीरे बसी दिल्ली ने हम सभी को ख़ुद में समाहित कर लिया I भले ही हम किसी भी प्रदेश या भाषा के हों, सभी का स्वागत किया है दिल्ली ने I पुरानी दिल्ली तो सदियों से वही है I बाज़ार, मकान, इमारत, मन्दिर, मस्ज़िद, पीढ़ियों को हस्तांतरित नाम और पहचान के साथ बदलती हुई सुदृढ पुरानी दिल्ली I किसी एक या किसी ख़ास की नहीं रही है दिल्ली, विशेषकर नयी दिल्ली I वक़्त वक़्त पर कितने नाम बदले होंगे इसके, कितने राज घराने, कितने राजशाही और सत्ताधारी को देखा इसने I घने जंगल कटे होंगे, कच्ची सड़कें पक्की हुई होंगी, राजमार्ग बने होंगे, यातायात के साधन बढ़े होंगे, ऐतिहासिक धरोहरें विकसित हुई होंगी I लोग बदलते गए और बढ़ते गए I दिल्ली भी अपनी निशानियों के साथ बदलती रही बढ़ती रही I पर दिल्ली की मिट्टी जो अब ईंट- कंक्रीट में पूरी तरह बदल चुकी है, आज भी सभी के दिलों पर राज करती है और सभी को पनाह देती है I आज भी दिल्ली में सुकून देने वाले उद्यान हैं, हरियाली है तो प्रकृति की समस्त ऊर्जा भी है I
दिल्ली दिल वालो का शहर है, दिल्ली सभी को अपना लेती है, अमीर हो या ग़रीब दिल्ली सभी की है, दिल्ली किसी की अपनी नहीं, दिल्ली की बेरुखी के चर्चे, लोगों की संगदिली के चर्चे, दिल्ली के ठग भी मशहूर हुए, दिल्ली की चकाचौंध, दिल्ली की रातें, दिल्ली की गर्मी, दिल्ली की ठण्ड आदि आदि कितनी शोहरत और बदनामी का दाग लिए दिल्ली अपनी जगह कायम है I जितने लोग सभी का अपना नज़रिया I कभी कोई यहाँ से हार कर गया तो किसी ने दुनिया जीत ली I अब ये दिल्ली की किस्मत नहीं दिल्लीवालों की तकदीर है कि किसको क्या मिला I

मेरे लिए दिल्ली आज भी उतनी हीं प्रिय है जितनी बचपन में थी I 21 साल से दिल्ली में हूँ लेकिन आज भी मन में दिल्ली के लिए एक अनोखा एहसास रहता है I ऐसा लगता है मानो दिल्ली कोई सुदूर देश का स्थान हो और जहाँ की दुनिया हमसे बहुत अलग और निराली है I वो जगह जहाँ आज़ादी के बाद स्वतंत्र भारत का तिरंगा फहराया गया होगा, वो जगह जहाँ देश के प्रधानमन्त्री और राष्ट्रपति रहते हैं, वो जगह जहाँ नागरिकों द्वारा चुने गए देश को चलाने वाले प्रतिनिधि रहते हैं, वो जगह जहाँ देश की राजधानी है, वो जगह जहाँ...
जब छोटी थी तो क्या क्या नहीं सोचती थी इस शहर के बारे में I मेरे पिता को घूमने और तस्वीर लेने का बहुत शौक था I जब हम दोनों भाई बहन छोटे थे तो हमें दादी के पास छोड़ मेरी माँ को साथ लेकर वो देश के अधिकतर शहर घूम आये I जहाँ भी जाते खूब सारी तस्वीरें लेते I मेरे पिता को तस्वीर लेने के साथ हीं उसे साफ़ करने का भी शौक था I जब भी घूम कर आते तो अपनी ली गई तस्वीरों को साफ़ करते I हम दोनों भाई बहन बैठ कर कौतूहल से रील को निगेटिव और फिर पॉजेटिव बनते हुए देखते I सारी तस्वीरों पर वो जगह का नाम और तिथि लिखते थे I हमलोग दिल्ली का लाल किला, कुतुबमीनार, जंतर-मंतर, इंडिया गेट, संसद भवन, राष्ट्रपति भवन, गांधी समाधि इत्यादि की तस्वीर देखते और तरह तरह के सवाल पूछते I दिल्ली गेट, दरियागंज, गोलचा सिनेमा हॉल का नाम खूब सुना था I
बचपन में दिल्ली कब आई ये तो याद नहीं लेकिन शायद 1986 का साल था जब पहली बार अपने होश में अपनी माँ के साथ मैं एन.ऍफ़.आई.डब्लू (NFIW) के राष्ट्रीय कांफ्रेंस में दिल्ली आयी, जिसमें कई महान हस्तियों के साथ हीं अमृता प्रीतम को भी देखी I अमृता की फैन मैं उनके साथ तस्वीर खिंचवाने में भी हिचकती रही और वो अपना भाषण देकर चली गई I भले मारग्रेट अल्वा के साथ फोटो खिंचवा ली क्योंकि लडकियाँ उनके साथ तस्वीर लेने में दिलचस्पी ले रही थी I कालान्तर में अमृता प्रीतम से मिली भी तो उनकी अवस्था ऐसी अशक्त थी कि तस्वीर और बात करना तो दूर उनको देख कर हीं आँखें भर आई I दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में कांफ्रेंस था और इसके साथ हीं हमलोग कुछ ख़ास जगह घूमने भी गए I ऐसा लगा जैसे कि किसी अनोखे शहर में आ गए हों I भाषा वही हिंदी, परन्तु उच्चारण अलग, पहनावा वही जैसा हमलोग पहनते थे, खान पान भी वही I मैं इस अलग दुनिया को जीभर कर देख रही थी कि क्या क्या है यहाँ जो मेरी सोच से अलग है I 

1987 में हम लोग फिर से दिल्ली आये, मेरा भाई छात्रवृति पर आगे की पढ़ाई करने अमेरिका जा रहा था I मेरे पिता के मित्र श्री रामाचार्य गांधी समाधि के इंचार्ज थे I उन के घर पर हीं हमलोग रुकते थे I भाई को विदा करने के बाद दूसरे दिन हम लोग एन.ई.एक्सप्रेस जो सुबह 6 बजे चलती थी से पटना के लिए चले I दिल्ली स्टेशन पर हीं गाड़ी खड़ी थी और हमारे दो सूटकेस चोरी हो गए I हमारा सारा सामान जिसमें मेरी माँ के और मेरे कपड़े थे चोरी चले गए I ट्रेन छोड़नी पड़ी I घंटो बाद रेल थाना में एफ.आई.आर दर्ज हो पाया I फिर रामाचार्य चाचा ने कनाट प्लेस के खादी भण्डार से मेरे लिए कपडे खरीदे, क्योंकि पहनने को भी कपडे नहीं रह गए थे I दूसरे दिन हम लौट आये, पूरी ज़िन्दगी के लिए एक टीस साथ लिये I चोरी गए सामान में मेरे पसंदीदा कैसेट, सभी अच्छे कपड़े, कुछ किताबें भी थी I पैसे की तंगी थी तो दोबारा ये सब खरीदना मुश्किल था I उसके बाद से जब भी पहाडगंज जाती तो ढूँढ़ती कि शायद हमारा वो टूरिस्टर सूटकेस मिल जाए I 

1988 में फिर दिल्ली आई I मेरे भाई ने मुझे ओहियो पढ़ने के लिए बुलाया था I लेकिन वीजा रिजेक्ट हो गया क्योंकि मैं बालिग़ थी और मेरे नाम अपने देश में कोई संपत्ति नहीं थी I फिर 1989 में मेरी शादी तय हो गई उसके बाद अक्सर दिल्ली आना लगा रहा I जब भी आती खूब घूमती 

1991 में शादी के बाद दिल्ली के बेर सराय में हम रहे फिर मुनिरका फिर सावित्री नगर (मालवीय नगर) के मकान नंबर 1 में किराए पर हम रहने लगे I शुरू में मकान- मालकिन को यकीन हीं नहीं होता था कि हम शादी शुदा हैं जबकि मेरे ससुराल के लोग वहाँ आ चुके थे I 1992 में मेरी नौकरी यूनिटेक लिमिटेड में हो गई जिसका कार्यालय साकेत में था I बस से आना जाना करती थी क्योंकि ऑटो के लिए पैसे नहीं होते थे I बस में इतनी भीड़ कि खड़ा होना भी आफत I काम से तीस हजारी कोर्ट जाना होता था I ऑफिस के चपरासी से मैं बस नंबर और रूट पूछ कर बस से जाती थी I वो अक्सर कहता कि जब आपको ऑटो का किराया मिलता है तो बस से क्यों जाती हैं? एक घटना के बाद मुझे ऑटो से अकेले जाने में बहुत डर लगता था I एक बार मैं अपने पति के साथ परिक्रमा होटल में रात का खाना खाने गई I वापसी में काफ़ी रात हो गई I बस मिली नहीं, एक ऑटो मिला, जाने के लिए तुरत तैयार हो गया I जैसे हीं मैं बैठी कि उसने ऑटो चला दिया, मैं चिल्लाने लगी और मेरे पति एक हाथ से ऑटो पकड़ कर दौड़ते रहे I कुछ दूर जाकर उसने रोका, जहाँ करीब 20-25 की संख्या में ऑटो चालाक खड़े थे I वो सभी ऑटो के पास आ गए I संयोग से सामने से एक पुलिस वैन आ रही थी जो भीड़ देखकर रुक गई I फिर हम पुलिस की गाड़ी से उस ऑटो वाले को लेकर पार्लियामेंट स्ट्रीट थाना गए I बाद में पुलिस वालों ने दूसरा ऑटो किया और रात को एक बजे घर पहुँचे I उस दिन से हीं ऑटो पर जाने से डर लगने लगा I कहीं जाना हो बस में चली जाती लेकिन ऑटो में नहीं I
जिन दिनों मेट्रो और फ़्लाइओवर के लिए सड़कें खोदी जा रही थीं, लोग कहते कि सरकार दिल्ली में हर तरफ गड्ढ़े करवा रही है, दिल्ली कि सड़कें गड्ढ़े में तब्दील I जब मेट्रो और फ़्लाइओवर बन गया तब मैं उन सबसे कहती कि अब किसे फ़ायदा हो रहा? क्या सरकार के मंत्री आ रहे इस मेट्रो में? या फिर फ़्लाइओवर पर सिर्फ नेता- मंत्री चलेंगे? आम जनता को बहुत सुविधा हुई मेट्रो से I कहीं भी जाना अब आसान लगता है I मेट्रो, फ़्लाइओवर, सुन्दर बसें, माल, सिनेमा हॉल देखकर अच्छा लगता है I सड़कें साफ़ सुथरी हैं I माल में सिनेमा देखना मेरा सबसे प्रिय शौक है I अब तो इतने सारे माल बन गए हैं I सिनेमा देखने लक्ष्मी नगर और गुड़गाँव तक चली जाती हूँ I क्या करूँ दिल है कि मानता नहीं I घर में ऊब जाओ तो अकेले भी माल में जाकर सिनेमा देख कर कुछ वक़्त बीता कर लौटने पर मन को अच्छा लगता है I सरोजनी नगर, मालवीय नगर, ग्रीन पार्क आज भी मेरा पसंदीदा बाज़ार है I गौतम नगर का वीर बाज़ार और साकेत का सोम बाज़ार अब भी लगता है और अभी भी सब्जी वहाँ से मँगाती हूँ I आदत है कि जाती नहीं I   
दिल्ली की भीड़ देखकर मन घबड़ाता है I दिन ब दिन भीड़ बढ़ती जा रही है I आये दिन ट्रैफिक जाम I कहीं जाना हो तो जाम के लिए अलग से समय लेकर जाना होता है I कभी कभी लगता है कि यहाँ किसी को दूसरे की फ़िक्र नहीं I अगर अकेले भी हैं तो यहाँ कोई नहीं पूछता कि अकेले क्यों? अगर उदास हैं तो कोई नहीं पूछता कि उदास क्यों? कोई दुर्घटना हो जाए तो भी शायद कोई नहीं देखे कि क्या हुआ I सभी अपने आप में व्यस्त, ख़ुद के लिए समय नहीं, दूसरे की परवाह कौन करे? कभी ये भी अच्छा लगता है जैसे चाहो रहो कोई टोकता नहीं I हर पहलू का अपना अपना रंग I
अब तो 21 साल हो गए दिल्ली को देखते- जानते- समझते I कई बार अपनी सी लगती है तो कई बार बेगानी I दिल्ली ने बहुत कुछ दिया है मुझे I सपने देखना भी सिखाया दिल्ली ने और जीना भी I आधी से ज्यादा ज़िन्दगी तो यहीं बीत गई I हर सुख़- दुःख की साथी रही है दिल्ली I उन दिनों भी दिल्ली ने हमारा साथ दिया जब एक वक़्त का खाना भी मुश्किल था, और अब भी जब सब कुछ है I ये सब दिल्ली का हीं दिया हुआ है I दिल्ली दिल्ली है, सच है दिल्ली देश का दिल है I 

- जेन्नी शबनम ( 11. 12. 2011)

__________________________________________________

25 comments:

कौशलेन्द्र said...

दिल्ली पर न जाने कितने मोहित हुए ..कितने मर मिटे......कितने आबाद हुए .....
मुझे तो दिल्ली में गुस्सा आता है .....वहाँ रजिस्टर्ड लुटेरों के आलीशान बंगले हैं ...जिसमें हमारे और आपके इनकम टैक्स का एक हिस्सा लगा है ......गुस्सा नहीं आयेगा ? और हाँ ! सुना है, वहाँ की बसें इंसानी खून ज्यादा पसंद करती हैं ..... :(
मुझे तो मुम्बई अच्छी लगती है ....दिल्ली की मेट्रो भी.........-:))
पर सबसे अच्छा लगता है खेतों में घूमना .....नदी या किसी समुद्र के किनारे-किनारे दूर तक चलते चले जाना ...फिर रेत पर लेटे रहना. मुझे चिड़ियों, तितलियों और फूलों से बातें करना भी अच्छा लगता है.
आपकी दिल्ली में लिट्टी-चोखा मिलेगा क्या ? ...और दही चूरा भी ...?

मनोज कुमार said...

अब तो बहुत बदल गई है दिल्ली।

Rakesh Kumar said...

बहुत अच्छा लगा आपकी आँखों से देखी और महसूस की गई दिल्ली का हाल पढकर.
बहुत ही रोचक मार्मिक और जज्बाती
वृतांत प्रस्तुत किया है आपने.बहुत कुछ जानने को भी मिला.सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक आभार.

सहज साहित्य said...

जेन्नी बहन आपका दिल्ली का संस्मरण तो ऐसा है कि मैं पढ़ता गया और लगा जैसे यहा दूर बैठे भी दिल्ली साकार हो उठी है । मैं 1968 में पहली बार दिल्ली आया । बस अड्डे से रिक्शा किया और ताऊ जी की हौज़री 85 खुर्शीद मार्केत सदर बाजार दिल्ली पहुँच गया । उसके बाद उनकी फैक्टरी वज़ीरपुर में चली गई । अब दिल्ली इतनी भीड़भाड़ वाली हो गई है कि दिल्ली में 3 साल से रहते हुए भी पुरानी जगह को तलाशना कठिन लगता है । सबसे बड़ी बात यह है कि दिल्ली देश की राजनीति का केन्द्र होते हुए भी अराजक होती जा रही है , जहाँ लोकतन्त्र का मतलब है , जिसकी लाथी उसकी भैंस । निरकुशता हर तरह से । अनजान तो ठगेंगे ही , अपने पुराने यार भी कब पीठ में छुरा भोंक देंगे , नहीं पता । ऐसे लोग भी कम नहीं जिनका पa्यर , स्नेह और सम्मान दिल को सींचता रहता है; जो सुख -दुख में अपना स्न्हेह भरा हाथ आगे बढ़ाए तपाक से मिलते हैं।

rasaayan said...

दिल्ली का क्या रूप खींचा है......सब कुछ है..वाही जो छोटे शहर में पर थोड़ा बड़े रूप में....बड़ी रोमांचक है.......बदला है बहुत कुछ ....देखने, सोचने और करने का तौर तरीका, लेकिन गहरे से देखो और सोचो, वही का वही....थोड़ा इतिहास को ध्यान से मनन करैं तो.....लेख पढ़ कर मन खुश हुआ बैसे है जैसे आपसे सामने बैठकर हुआ था...
सस्नेह,

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है! आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक पाठक पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

shikha varshney said...

महानगर और उसपर भी देश की राजधानी हो तो उसकी अपनी बहुत सी अच्छाइयां और बुराइयां होती हैं.सच कहा आपने कभी अपनी सी लगती है दिल्ली कभी एकदम बेगानी.मैंने भी बचपन से देखी है दिल्ली ऊपर से तो बहुत बदल गई है दिल्ली पर स्वभाव बदला है क्या? कभी कभी लगता है क्या बदला है कुछ भी तो नहीं.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

hahahahha dahi chura... kaushalendra ji, hum jahaan hote hain wahi mera ghar aur jahaan mera ghar wahaan litti chokha bhi, dahi chura bhi aur bhutta bhi, aluaa bhi, makai aur madua ki roti bhi, khesaari aur gendhaari ka saag bhi. mere liye to pura desh ek bada bhagalpur hai, jahan sab kuchh hai aur wahi bhagalpur is dilli me bhi hai. yahaan bhi fool hai, titliyan hai, khet hai, taazi sabziyaan hai. bas ek nahin hai to sagar. ab ye insaan ke bas ki baat nahin ki dilli me sagar aa jaye ya bombay mein koi nadi aa jaye. prakriti ka har roop aatmsaat karti hu jahaan hoti hun. yahaan ki bus ho ya kahin ki, chalaane waala koi na koi insaan hi hai aur insaan jis par haivaaniyat ho sabhi jagah baste hain. registerd lootere to ab gaanv-kasbon tak mein pasar gaye hain kya kiya jaaye? sirf dilli hi nahin desh ka koi bhi hissa in sab se achhuta nahin. samudra mujhe bhi bahut pasand hai, kuchh din mumbai me rahi hoon vashi mein, ek dam samudra kinare. ab har jagah ka apna aanand. tulna kya karna.
mujhe to ab bhi dilli bahut pasand hai. bas ghar ki yaad aaye bhagalpur chal deti hun.
dhanyawaad aapke vichar ke liye.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Manoj ji,
dilli ke Raajdhani banane ke baad badlaav aur unnati ka hona to laajimi hai. din ba din vibhiin praant ke log badhte jaa rahe, to saanskritik badlaav bhi ho raha. mere blog par aaye dhanyawaad.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Rakesh ji,
dilli jitni sundar hai andar se utni hi rukhi bhi aur komal bhi. apne apne hisaab se jo jaisa hota usko wasi hi milti hai dilli. har rang roop isme samaahit hai. bahut unnati hui hai mere rahte. mere blog par aapko dekhkar achchha laga. aabhaar.

indu puri said...

पिछले बीस पच्चीस सालों मे देश का हर शहर बदला है.बेशक उन्नति,प्रगति खूबसूरत भवनों,फेक्ट्रीयों के रूप मे दिखाई दे रही है और पक्की सड़कों के रूप मे भी.
दिल्ली इन सबसे अछूती कैसे रह सकती थी भला.सच लिखा यह तो उसी दिन बन चुकी थी जिस दिन पृथ्वी बनी थी.
दिल्ली ने कई साम्राज्य देखे.इतिहास का अंग बनी.
राजधानी बनी.रज़िया सुलतान,बहादुर शाह ज़फर आँखों के सामने घूम जाते हैं.
आपकी आँखों से दिल्ली को देख रही हूँ.अच्छा लग रहा है.जियो आप.....आपकी दिल्ली और उससे जुदा हर शख्स.महासागर के अपने खूबसूरत और बदसूरत रूप हमेशा से रहे हैं रहेंगे महानगरों की तरह.नही बदला जा सकता उसे.उसी रूप मे स्वीकार करना होगा हमे.है न?

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Kamboj bhai,
dilli mein pyar bhi utna hin milta hai jitna beganapan. par aisa nahi ki desh ke baaki jagah se kuchh alag hai yahaan ki soch. insaan to sab wahi hain is desh ke hi. koi prem karta to koi kab dhokha de jaaye pata bhi nahin chalta. tulnaatmak roop se yahan isliye ye sab jyada hota kyonki yahan sabhi paisa kamaane aaye hain, saankritik viraasat bachaane nahin. visheshkar nai dilli mein to sabhi bahar se aakar base hain. mujhe to is shahar se bahut prem mila. kuchh haadse zaroor hue hain, lekin zindagi ko ya dilli ko uske liye jimmewar main nahin manti. manushya ki soch iske liye jimmewaar hai. gaanv mein bhi apne sage zara si sampatti ke liye dushman ban jaate. dilli to mere man mein bas gai hai. blog tak aane ke liye bahut aabhar.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Arvind bhai,
dilli to waisi hi rahi jaane kab se. log aate gaye dilli ko badalte gaye. apni apni sanskriti ko laate gaye. aur mili juli sanskriti ban gai. aabo-sawa wahi, ronak wahi, imaaraten badhti gai jaise jaise log badhte gaye. metro aur mall ityaadi ne zindagi ko aasan kar diya hai.
aapse milkar mujhe behad khushi hui, lekin aap itne kam samay ke liye aaye ki thik se baaten bhi na ho saki thee. blog par aapko dekhkar achchha laga. saadar.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Roopchandra ji,
mere blog par aane ke liye dil se dhanyawaad. charcha manch par mere blog ko sthaan de kar mujhe protsaahit karne ke liye aabhari hun. saadar.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Shikha ji,
dilli to wahi hai, bade bade bhawan ban gaye, mall ban gaye, metro, flyover aadi. par swabhaav to ab bhi wahi, mila-jula. pure desh ko dekhna ho to dilli ko dekh sakte hain. chaahe raajnitik pahloo ho ya fir saanskriti har jagah ki chhaap yahan hai. apni bhi utni hi jitni begani hai, kyonki hum bhi to sabhi ke liye ek sandeh lekar chalte hain ki kya pata saamne wala kaisa hai, sabhi log aise hi sochte hain. fir bhi aise mein aap jaise kitne mitra mile. zindagi yaha ki bahut nirali hai. man ke anuroop har swabhaav ke anusaar dilli... aabhar yahan tak aane ke liye.

निर्झर'नीर said...

or jab bas mein kiraya 1,2,3,4 rs hota tha 4 rupe do poori dilli ka chakkar lagaoo ,,,,,,,,,,,,sab badal gaya dekhte dekhte

indu puri said...

अरे मेरा कमेन्ट कहाँ गया जी? आश्चर्य! और.......अफसोस !

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Indu ji,
sahi kaha badlaav ke saath jo bhi hai usey hamein usi roop mein apnaana chaahiye. ab to gaanv mein bhi har makaan eint ka ho gaya hai. har kasbaa chhota shahar ban gaya hai. chaahe raajnitik paridrishya ho ya saamaajik sab mein badlaav aaya hai. ab har gaanv raajnitik roop se jaagruk ho chuka hai. Delhi to fir bhi raajdhaani hai badlaav aur unnati to laajimi hai. kuchh achchhai kuchh buraai to har jagah hai. mere blog par aapki pratikriya ke liye aabhar.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Neer ji,
arey haan ye likhna to yaad hi na raha. ek rupaye mein hum Munirka se station chale jate they. aur munirka mein 5 rupaye mein 4 roti aur aalooo ki ek sabzee jismein khoob sara curry hota thaa khareedte they. dhaba wala is liye bhi khoob sara curry deta thaa kyonki wo Darbhanga (bihar) se thaa. bahut kuchh thaa un dinon. ab to wo sab badal gaya hai.
shukriya mere lekh tak aane ke liye.

ऋता शेखर 'मधु' said...

Jenny ji,Dilli ko aapki nazron se dekha...bahut achha laga.khesaari aur gendhari ka saag bhi hai,vaah!sachmuch,raazdhaani ke baare mein padkar bhut achha laga.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Indu ji,
aapke comment spam ki shobha badha rahe they. waapas pakad kar le aai. shukriya.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Hrita ji,
mere blog par aapka swaagat hai. main jahan hoti wahaan puri duniya ko samet laati hoon, chaahe khesari ka saag ho ki meri apni bhaasha. Raajdhani ki zindagi ka apna maza hai, har rang yahan bikhra hua hai. shukriya aapka.

Sunil Kumar said...

इतनी लम्बी पोस्ट आज तक मैंने एक बार में कभी नहीं पढ़ी मगर रोचकता अंत तक बरक़रार रही दिल्ली के अनुभव पढ़े फिर भी दिल्ली दिल है हमारा .....

bhawna vardan said...

kuch samay ke liye dilli mein rehna hua tha ,bara hi mushkil samay tha, bas shahar reh gaya mein kahin par gum ho gayi, bahut mushkil se dhoonda khud ko ............

bhawna vardan said...

kuch samay ke liye rahi thi dilli mein, par laga ki ki sirf shahar hi reh gaya aur mein kahin gum si ho gayi thi, ek bhool-bhulaiya hai,badi mushkil se dhoonda fir khud ko aur wapas aa gayi apne chote se shahar mein........