Saturday 27 August 2011

28. अन्ना-अनशन-आन्दोलन

अन्ना हजारे का आन्दोलन अंततः ख़त्म हो गया है I सरकार कितने वक़्त में जन लोकपाल को अमली जामा पहनाएगी, यह तो अपने तय वक़्त पर ही हम सबके सामने आएगा I पर इतना तो निश्चित ही हम कह सकते हैं कि इस आन्दोलन में जनता की भागीदारी ने ये साबित कर दिया है कि आज पूरा देश जिस तरह भ्रष्टाचार से त्रस्त और आहत है इससे निज़ात पाने के लिए हर मुमकिन रूप अख्तियार किया जा सकता है I अन्ना के समर्थन में तमाम विपक्षी पार्टियाँ, सामाजिक संगठन और देश की पूरी जनता है I इस पर कहीं कोई दो मत नहीं कि भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत पर ख़त्म करना चाहिए I सरकार हो या आम जनता या ख़ास जनता या फिर विपक्षी पार्टियाँ सभी चाहते हैं कि देश से भ्रष्टाचार दूर हो और हमने जिस आज़ाद प्रगतिशील भारत का सपना देखा है वो पूरा हो I


अन्ना हजारे के अनशन को सभी अपने-अपने तरीके से ले रहे थे I मकसद तो यही है कि भ्रष्टाचार दूर हो लेकिन सोचने वाली बात है कि क्या सिर्फ जन लोकपाल बिल से भ्रष्टाचार दूर हो जाएगा? अन्ना के अनशन के दसवें दिन मैं राम लीला मैदान गयी यह देखने कि आम जनता पर इसका असर कैसा है और वो किस तरह इस आन्दोलन से खुद को जोड़ते हैं I सामान्य जनता के लिए अलग पंक्ति बनी थी, जिससे रामलीला मैदान में प्रवेश कर सकते हैं I अपने पुत्र के साथ एक पंक्ति में मैं भी लग गयी I एक दूसरी पंक्ति भी थी जो साथ ही आगे बढ़ रही थी I कुछ लोग मेरी कतार से निकल कर दूसरी कतार में दौड़ कर चले जा रहे थे क्योंकि उन्हें लगा कि उसे पहले जाने दिया जाएगा I कुछ कार्यकर्ता उन लोगों को वहाँ से पकड़ कर वापस उनकी पंक्ति में ला रहे थे, तब तक दूसरा दौड़ जा रहा था I मज़ा भी आ रहा था देखकर लेकिन मैं सोचने लगी कि जिस भ्रष्टाचार के खिलाफ यहाँ आन्दोलन हो रहा है वहीं पहुँचने के लिए लोग अपना आचरण गलत कर रहे हैं I 'दिल्ली पुलिस' के नाम से प्रचलित गलत छवि को पुलिस वाले आज पूरी तरह साफ़ करने के मूड में दिख रहे थे, किसी के चेहरे पर कोई शिकन नहीं, कोई झुंझलाहट नहीं, आवाज़ में भी तल्खी नहीं, मुस्कुराते हुए, सुरक्षा के लिए तैनात दिख रहे थे I स्कूल ड्रेस पहने स्कूली बच्चे, छात्र, युवा, दफ़्तर से काम के बाद लौटने वाले कर्मचारी या अधिकारी, हर तबके और उम्र के पुरुष और महिलायें, मज़दूर, रेड लाईट पर भीख माँगने वाले आदि भीड़ में शामिल दिखे I कहीं अफरातफरी नहीं पर लोगों में आक्रोश बहुत अधिक था I  

मैदान में प्रवेश करते ही बदबू का भभका नाक में घुसा I बारिश के पानी से जहाँ-तहाँ पानी लगा था I अन्ना-रसोई का मुफ़्त भोजन वितरण की अलग पंक्ति जो ख़त्म ही नहीं हो रही थी 
I मैदान में खाने की प्लेट, पानी का ग्लास, केले का छिलका बिखरा पड़ा था I एक तरफ सफाई कर्मचारी साफ़ करने में भिड़े थे तो दूसरी तरफ लोग खा-पीकर जहाँ-तहाँ गंदगी फैला रहे थे I

अन्ना के मंच की तरफ बढ़ने पर 25-26 वर्षीय छोटे कद का एक नवयुवक दिखा जिसने दोनों हाथों से एक बड़ा सा कागज़ पकड़ा हुआ था I जैसे ही नज़दीक गई तो मैं रुक कर पढ़ने लगी I उसमें लिखे का अर्थ था कि सोनिया गाँधी जैसा चाहती हैं मनमोहन सिंह वैसा ही करते हैं, लेकिन भाषा बहुत ही अभद्र थी I बहुत उत्साहित और जोश में वो पूछने लगा ''आंटी कैसा लगा? मैंने लिखा है, बहुत दिमाग लगाया फिर लिखा है, सही है न ?'' मैंने उससे पूछा कि आप क्या करते हैं? उसने बताया कि वो गंगा राम हॉस्पिटल में डॉक्टर है, फिर पूछने लगा ''आंटी बताइए न ठीक लिखा है मैंने?'' मैंने पूछा कि ऐसा क्यों लिखा है? उसने कहा ''आंटी आपको एक चुटकुला सुनाऊँ?'' मैंने मुस्कुराकर हाँ में सर हिलाया I उसने सुनाया कि एक हिन्दू एक मुस्लिम और एक सिख मरने के बाद स्वर्ग गए I वहाँ सबसे पूछा गया कि तुमने क्या-क्या किया, ज़िन्दगी कैसी कटी, आराम था न? हिन्दू ने बताया कि उसने पूजा पाठ किया, तीर्थ यात्रा की और आनंद से ज़िन्दगी जीया 
I मुस्लिम ने कहा कि उसने नमाज़ पढ़ा, रोजा रखा और मक्का गया, वो ख़ुश है उसने अपनी ज़िन्दगी बहुत आराम से जीया है I सिख बोला ''कैसा आराम? आपने कैसी ज़िन्दगी दी मुझे? मुझे टॉफी बना दिया, नीचे से भी मरोड़ा जाता है ऊपर से भी I'' मैं समझ नहीं पाई कि इसमें चुटकुला क्या है I मैंने उससे पूछा कि इसका अर्थ क्या हुआ I उसने कहा कि मनमोहन सिंह है न ! वो दोनों हाथ नचा-नचा कर बताने लगा कि जैसे टॉफी को दोनों तरफ से मरोड़ कर बंद करते हैं वैसे ही (अर्थात सरदारों के बाल और दाढ़ी) I आश्चर्य हुआ एक डॉक्टर की भाषा और सोच पर, ये कैसा आन्दोलन कर रहे जिसमें प्रधानमंत्री के बारे में ऐसी भाषा I

आगे बढ़ने पर भीड़ बढ़ती जा रही थी I एक व्यक्ति चुपचाप एक चार्ट पेपर लेकर खड़ा था और जो भी सामने से गुज़रता उधर घूम कर उसे पढ़ाता I लिखा था- ''सावधान सावधान, अभी अभी हमें पता चला है कि पाकिस्तान के दो सूअर हमारे देश के किसी नाले में घूस गए हैं, बचकर रहना I उनके नाम हैं कपिल सिब्बल मनीष तिवारी I'' मैं अवाक् होकर उसे देखने लगी I पर उसके चेहरे पर कोई भाव नहीं I बड़ा अजीब लगा कि ये कैसी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, व्यक्तिगत टिप्पणी वो भी इतना घटिया I
आगे बढ़ने पर रामदेव बाबा का बड़ा सा बैनर दिखा जिसपर उन्होंने कहा है कि काला धन वापस आएगा तो हमारे देश को क्या-क्या लाभ होगा I बाबा का आकलन और अनुमान देखकर आश्चर्य हुआ I उस बैनर की तस्वीर हमने ले ली; जब कला धन वापस आ जाएगा तो याद रहेगा कि बाबा के अनुमान के मुताबिक़ क्या-क्या हो पाया और क्या नहीं I

धीरे-धीरे भीड़ में घुसते गए हम I बहुत बुरा हाल था I मीडिया के मंच तक भी नहीं पहुँच पाए कि लगा कि अब बेदम हो जायेंगे I एक तरफ अन्ना के मंच पर बिहार के भोजपुरी फिल्म अभिनेता-गायक मनोज तिवारी का देश भक्ति गीत गूँज रहा था तो दूसरी तरफ कुछ लोग नारा लगा रहे थे - ''सोनिया जिसकी मम्मी है वो सरकार निकम्मी है'', ''मनमोहन जिसका ताऊ है वो सरकार बिकाऊ है I''

वहाँ से ही वापस हो गयी क्योंकि अन्ना के मंच तक पहुँचना असंभव था I पंडाल में एक जगह कुछ ग्रामीण महिलायें बैठी दिखी और साथ में गेरुआ वस्त्र पहने दाढ़ी वाले दो बाबा I वो जन लोकपाल बिल को और इस आन्दोलन को कितना समझती हैं ये जानने के लिए मैं उनसे बात करने लगी I वे सभी 'भारतीय किसान यूनियन' सतना, मध्य प्रदेश, से थे I एक गेरुआधारी का नाम लालमन कुशवाहा है I मैं जिनसे बात कर रही थी उनका नाम शान्ति कुशवाहा है I शान्ति ने बताया कि किसान यूनियन के नेता ईश्वरचंद्र त्रिपाठी के साथ वे सभी आये हैं I मैंने पूछा कि यहाँ क्या हो रहा है, आप क्या करने आयी हैं? शान्ति ने बताया कि हमलोग अन्ना का साथ देने के लिए आये हैं, भ्रष्टाचार दूर करने के लिए I मैंने पूछा कि आपके गाँव में भ्रष्टाचार है? तो एक दूसरी महिला जो शांति के बगल में बैठी थी उत्तेजित होकर कहने लगी कि ''कहाँ नहीं है भ्रष्टाचार? सबको घूस देना पड़ता है तब कोई काम होता है, कहाँ से लाये हम पैसा?'' शान्ति से मैंने पूछा कि क्या आपको कभी घूस देना पड़ा है? उसने कहा ''नहीं हम तो नहीं दिए हैं लेकिन मुखिया और थाना में और अस्पताल में पैसा देना होता है तभी कोई काम होता है I'' मैंने पूछा कि आपको यहाँ कोई दिक्कत? कब से आये हैं आप लोग? उसने बताया कि ''आजे सुबह ही आये हैं, खाना भी मिला है और कोई दिक्कत नहीं है, जब ईश्वरचंद्र जी कहेंगे तभी हम लोग यहाँ से जायेंगे I'' बगल वाली महिला अपना बैज और कार्ड दिखाने लगी जिसपर मेंबर भारतीय किसान यूनियन लिखा था I मैंने कहा कि जन लोकपाल बिल क्या है आपको मालूम है? वो बोली कि ''हम नहीं जानते नेता जी जानते हैं, वही हम लोग को लाये हैं उनके साथ ही हम आये हैं अन्ना का साथ देने''I सच भी है ये ग्रामीण महिलायें लोकपाल बिल क्या जाने, बस इतना जानती है कि अन्ना का साथ देंगे तो देश से भ्रष्टाचार दूर होगा I अन्ना-आन्दोलन को सक्रिय सहयोग देने के लिए शुभकामना देकर हम पंडाल से बाहर आये I पंडाल में ही एक जगह ''यादव वंश का इतिहास'' नामक किताब की बिक्री हो रही थी जिसकी मात्र 3 प्रति ही वहाँ बच गयी थी, बगल में बड़ा-बड़ा पोस्टर उस इतिहास को बताने के लिए लगा था I

सामने दो युवक मुस्कुराता हुआ अपना बैनर लिए खड़ा दिखा, फिर मुझे देखकर नज़दीक आया, किसी के भी आने से वो नज़दीक जा रहा था ताकि उसका बैनर पढ़ा जा सके, मैं पढ़कर स्तब्ध रह गयी ''एच.आई.वी से ज्यादा खतरनाक है कपिल सिब्बल I'' बेटे से मैंने कहा कि फोटो ले लो, तो उन दोनों ने पूरे जोश में आकर फोटो खिंचवाया I 

आन्दोलनकर्ता के साथ ही मुफ़्त खाना खाने वालों की भीड़ वैसी ही बनी हुई थी I केला लेने के लिए अलग एक लम्बी कतार थी, कुछ लोग उनमें से एक बार लेने के बाद खाकर वहीं छिलका फेंक फिर दोबारा पंक्ति में लग जा रहे थे I सच ही है भूख हो तो किसी का भी ईमान भ्रष्ट हो जाता है और कोई मौक़ा चूकने नहीं देता भले वो भ्रष्टाचार के विरुद्ध बोलता हो या फिर भ्रष्टाचार से त्रस्त हो I बाहर निकलने वाले गेट पर एक पोस्टर टंगा था जिसमें लिखा था ''संसद का घेराव करो, जल्दी चलो, जय भारत माता की'', ''अन्ना भूखा है, कुत्ते पार्टी करते हैं''I

अन्ना का अनशन भ्रष्टाचार के विरुद्ध है और हर बार वो हिंसा नहीं करने की गुजारिश करते थे I शारीरिक हिंसा तो कहीं नहीं है इस आन्दोलन में परन्तु मानसिक और भाषाई हिंसा सभी जगह नज़र आ रहा है I सरकार की गलत नीतियाँ और उनके विरुद्ध आवाज़ उठाना हर नागरिक का अधिकार भी है और कर्तव्य भी, लेकिन व्यक्तिवादी गाली देना या अशिष्ट भाषा का प्रयोग करना कहीं से जायज़ नहीं है I निःसंदेह अन्ना के साथ पूरा देश है क्योंकि भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ पूरा देश है, लेकिन अन्ना को क्या पता कि उनके समर्थक और उनको चाहने वाले उन्हीं के आन्दोलन के पंडाल में भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाते हुए खुद अपना आचरण भ्रष्ट कर रहे हैं I गाँधी और अन्ना को एक कहने वाले कभी गाँधी को पढ़ लें तो शायद अहिंसा, अनशन और आन्दोलन का अर्थ समझ जायेंगे I

- जेन्नी शबनम (अगस्त 27, 2011)

******************************
************************************************
  

8 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

अच्छा आलेख है।

कौशलेन्द्र said...

जेन्नी जी ! हम बहुत ईमानदार, नीतिवान और चरित्रवान हैं .....किन्तु तभी तक ...जब तक कि अवसर नहीं मिलता. अवसर मिलते ही हम हैवान हो जाते हैं. भीड़ की मानसिकता यही है. ऐसे आदर्शवादी कम ही मिलेंगे जो अवसर मिलने पर भी अपने सिद्धांतों पर डटे रहते हैं ...इसे कहते हैं संस्कार. आज हम अपसंस्कृति के दौर से गुज़र रहे हैं. एक ओर पूरे देश में भ्रष्टाचार के विरोध में लोग उठकर खड़े हो रहे हैं, दूसरी ओर सरकारी कार्यालयों का हाल वही है ...अपरिवर्तित. ये कौन हैं जो भ्रष्टाचार का विरोध करते हैं ...? ये कौन हैं जो सरकारी कार्यालयों की भ्रष्ट परम्पराएं बनाए रखना चाहते हैं ? मतलब यह कि जब तक क़ानून हमारी फजीहत नहीं कर देगा तब तक हम रिश्वत लेते रहेंगे.
चलिए , आपके लिए एक प्रासंगिक गीत भेज रहा हूँ.

Khare A said...

NICE REPORTING FROM RAMLILA MAIDAAN!

ACHHA LAGA PADHNA AAPKE APNE STYLE ME!
AAPNE "AACHHAR AUR VICHAAR" SE UTPANN HONE WALE BHIRASHTACHAAR KI BAT KAHI!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

bahut shukriya Roopchandra ji.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Kaushalendra ji,
mere is aalekh ko likhne ka maksad hin yahi hai ki hum sabhi awsarwaadita ka fayeda uthaate hain. jo log bhi wahaan Anna ke samarthan mein they wo sirf apna aakrosh vyakt kar rahe they, kyonki Anna ne baar baar nivedan kiya thaa shaantipurvak rahna hai koi hinsa nahin, atah shabd hinsa to aasaani se ki ja sakti thee, aur yahi wahan sabhi kar rahe they. bhrashtaachaar se kaun nahin aahat hai? kya jo wahan nahin shaamil hue wo peedit nahin? kisi bhi party ke log hon sabhi isase peedit hain. mumkin hai ki Anna ji ko stage ke pichhe aur stage se door hone waale kartuton ka pat ana ho, kyonki un tak koi pahunch nahin sakta thaa, itni kadi suraksha ki gai thee.
janlok paal bill kis tarah banega aur kaise kaamyaabi milegi, kuchh pata nahin.
bahut shukriya aapne apne vichar yaha preshit kiye.
bahut umdaa geet hai, yun hin likhte rahein, shubhkaamnaayen.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Gaurav bhai,
aachar-vichaar mein bhi ahinsa honi chaahiye. sirf Anna ke samarthan mein wahan bheed jama kar aur apna aakrosh vyakt karke kya dikhana? shabd hinsa jo Anna dekh nahin sakte kyonki un tak koi pahunch nahin sakta thaa. pura desh bhrashtachaar ke khilaaf hai, fir bhrashtaachar kaun kar raha? yahi to sawaal hai.
mera lekh tak aap aaye, shukriya.

Mukesh Kumar Sinha said...

agar anne ke saath jo the, wo hi sirf kah den ki ham bhrashtachar se dur rahenge to bhi iss desh ka thora kalyan to ho hi jayega...........

रविकर said...

आज आपका परिचय चर्चा मंच पर प्रस्तुत किया गया है |
एक साल की बिटिया रानी : चर्चा मंच 681
http://charchamanch.blogspot.com/